बड़ी खबर: सरकारी रिपोर्ट में खुलासा, 60 हजार से अधिक लोग कर चुके पलायन, बाढ़ भी एक बड़ा कारण

कांग्रेस ने भी 60 हजार लोगों के पलायन पर केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया का नाम लिए बिना तंज कसा है

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। ग्वालियर जिले के डबरा और भितरवार ब्लॉक के गांवों में पिछले दिनों आई बाढ़ और बेरोजगारी का असर दिखाई देने लगा है। शिवराज सरकार (Shivraj Government) ने दिल खोलकर मदद का एलान किया, राहत शिविर लगाए, भोजन, कपड़े की व्यवस्था की लेकिन सरकार की मदद कितनी धरातल तक पहुंची इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि ग्वालियर जिले (Gwalior District) से 60 हजार से अधिक लोग पलायन कर चुके हैं। इनमें वे लोग अधिक हैं जो बाढ़ से प्रभावित हुए। ग्रामीणों के पलायन के खुलासे के बाद जिला प्रशासन वैक्सीनेशन के लक्ष्य को पूरा करने के लिए मजबूत रणनीति बना रहा है। हालाँकि कांग्रेस ने इस पलायन पर नाम लिए बिना सिंधिया पर निशाना साधा है।

ग्वालियर-चंबल अंचल के ग्वालियर, दतिया, श्योपुर, शिवपुरी, भिंड, मुरैना, गुना और अशोकनगर में पिछले दिनों आई बाढ़ और अतिवर्षा ने बहुत नुकसान किया। बाढ़ का प्रकोप ग्वालियर जिले में डबरा-भितरवार ब्लॉक के गांवों में देखने को मिला। पहले से ही बेरोजगारी से जूझ रहे ग्रामीणों को बाढ़ ने बर्बाद कर दिया। ग्रामीण रोजी-रोटी की तलाश में पलायन करने लगे । वैक्सीनेशन अभियान के दौरान तैयार हुई लिस्ट से इसका खुलासा हुआ है। सरकारी रिपोर्ट में खुलासा हुआ कि पिछले सात महीनों में ग्वालियर जिले से 60 हजार से अधिक लोग पलायन कर चुके हैं।

ये भी पढ़ें – अब पूर्व मंत्री के विरोध में उतरे अधिकारी-कर्मचारी संगठन, FIR की मांग, ये है मामला

गौरतलब है कि जिला प्रशासन की टीम ने जनवरी 2021 की मतदाता सूची से मिलान करते हुए 100 प्रतिशत वैक्सीनेशन का लक्ष्य तय किया है । ग्वालियर जिले का ग्रामीण क्षेत्र मुरार, बरई, भितरवार और डबरा इन चार ब्लॉक में बंटा हुआ है। इन चारों ब्लॉक में 255 ग्राम पंचायत हैं, जिनमें 4 लाख 45 हजार 517 मतदाता दर्ज हैं। लेकिन जब  वैक्सीनेशन की सूची बनी तो एक बड़ी बात सामने निकलकर आई कि इनमें से 64 हजार 235 लोग अब यहाँ नहीं है। जबकि 3217 लोगों की मृत्यु होने की सूचना वैक्सीनेशन टीमों ने प्रमाणीकरण कर दी है।

ये भी पढ़ें – हैवानियत की हदें पार करने वाली माँ गिरफ्तार, मासूम बेटे को गर्म चाकू से दागकर ऐसे करती थी टॉर्चर

सर्वे टीम ने जो आंकड़े जुटाए उसके हिसाब से 61 हजार 18 लोग गांव छोड़कर जा चुके हैं यानि पलायन कर चुके हैं जिला पंचायत ग्वालियर के सीईओ आशीष तिवारी ने इस पलायन पर कहा कि मतदाता सूची के आधार पर लिस्ट तैयार की गई है।  जिसमें पहले डोज हुए दूसरे डोज लगवाने वालों की लिस्ट बनाई गई थी।  इसमें कई लोग ऐसे हो सकते हैं जिन्होंने दूसरे जिलों में वैक्सीन लगवा ली हो, हम इसका परीक्षण करवा रहे हैं । उन्होंने कहा कि नरेगा के कार्ड की स्थिति अच्छी हैं। हम आंकड़े चैक करवा रहे हैं।  उन्होंने कहा कि मुरार में 100 प्रतिशत और घाटीगांव में 95 प्रतिशत से ज्यादा वैक्सीनेशन हो चुका है अब डबरा और घाटीगांव (बरई ) में वैक्सीनेशन लक्ष्य को पूरा करेंगे।

ये भी पढ़ें – Sex Racket : सलून की आड़ में चल रहा था रैकेट, पुलिस की कार्रवाई, आपत्तिजनक सामान के साथ महिला गिरफ्तार

उधर कांग्रेस ने भी 60 हजार लोगों के पलायन पर केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया का नाम लिए बिना तंज कसा है।

बहरहाल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्म दिवस पर ग्वालियर जिला प्रशासन ने  विशेष टीकाकरण महाअभियान
अभियान के तहत एक दिन में  एक लाख 11 हजार कोरोना टीका लगाने का लक्ष्य रखा है और पूरा ध्यान ग्रामीण क्षेत्र पर ही है अब देखना ये है कि पलायन की इतनी बड़ी संख्या के बाद जिला प्रशासन ये आंकड़ा कैसे पूरा करता है।