MP PAT Exam 2021: 5 दिसंबर से शुरू होगी परीक्षा, बदले नियम, जाने नई अपडेट

MPPEB: MP PAT Exam 2021- इस परीक्षा के माध्यम से छात्रों को सरकारी संस्थानों में कृषि पाठ्यक्रमों में प्रवेश दिया जाता है।

PEB

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश (MP) में प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड (professional examination board) ने परीक्षा को लेकर बड़ी तैयारी की है। दरअसल परीक्षा (Exam) में गड़बड़ी की आशंका को कम करने के लिए आधार सत्यापन (aadhar verification) और बायोमेट्रिक सत्यापन (biometric verification) अनिवार्य कर दिया गया है। हालांकि प्रोफेशनल एग्जाम बोर्ड (MPPEB) का कहना है कि इस तरह से फर्जी विद्यार्थियों के परीक्षा में शामिल होने की संख्या में कमी आएगी।

बता दें कि मध्य प्रदेश में 5 से 7 दिसंबर को प्री एग्रीकल्चर टेस्ट (MP PAT Exam 2021) की परीक्षा आयोजित की जाएगी। जिसमें आधार और बायोमेट्रिक सत्यापन करना अनिवार्य किया गया है। हालांकि आधार सत्यापन की प्रक्रिया में लंबा समय लगेगा। जिसके कारण MPPEB द्वारा छात्रों को समय से पहले ही परीक्षा केंद्र पहुंचने की हिदायत दी गई है। इसके साथ ही निर्देश दिया गया है कि समय पूरा होने के बाद परीक्षा केंद्र पहुंचने वाले परीक्षार्थियों को परीक्षा में शामिल नहीं होने दिया जाएगा।

Read More: जाने आपको मिलेगी या नहीं PM Kisan की 10वीं किस्त, खाते में जल्द भेजे जाएंगे 2000 रुपए

परीक्षा तिथि:

गौरतलब है कि मध्य प्रदेश प्री-एग्रीकल्चर टेस्ट 2021 अगले महीने यानी दिसम्बर में होगा। परीक्षा की तिथि 5 से 7 दिसम्बर 2021 निर्धारित की गई है। इस परीक्षा के माध्यम से छात्रों को सरकारी संस्थानों में कृषि पाठ्यक्रमों में प्रवेश दिया जाता है।

परीक्षा अनुसूची:

जहां तक ​​परीक्षा कार्यक्रम का सवाल है, एमपी पीएटी परीक्षा दो सत्रों में आयोजित की जाएगी। पहले चरण में सुबह 9 बजे से दोपहर 12 बजे तक आयोजित किया जाएगा। जबकि दूसरे चरण में दोपहर 2 बजे से शाम 5 बजे तक होगा। यह तीन दिनों के लिए परीक्षा कार्यक्रम होगा।

अन्य सूचना:

पीएटी परीक्षा में बैठने के लिए उम्मीदवार को किसी मान्यता प्राप्त संस्थान से 10+2 पैटर्न में 12वीं पास होना चाहिए। साथ ही यह जरूरी है कि उसने 12वीं साइंस से की हो। पीएटी परीक्षा परिणाम के अनुसार, उम्मीदवारों को बीएससी कृषि, बीएससी बागवानी, बीएससी वानिकी और बीटेक कृषि इंजीनियरिंग कार्यक्रमों में संबंधित संस्थानों में प्रवेश दिया जाएगा।