MP: जहरीली शराब पर सियासत तेज, दिग्विजय ने मांगा आबकारी मंत्री का इस्तीफा

प्रदेश सरकार ने इस मामले को गंभीरता से लिया है और जिला आबकारी अधिकारी को इन्दौर अटैच करने के साथ-साथ कुछ पुलिसकर्मियों को निलंबित भी किया है।

digvijay singh

भोपाल, हरप्रीत रीन। मंदसौर (mandsaur) में आबकारी मंत्री (excise minister) के विधानसभा क्षेत्र मल्हारगढ़ में  जहरीली शराब पीने से हुई मौतों का मामला सियासी रंग पकड़ गया है। अब पूर्व मुख्यमंत्री और राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह (dgvijay singh) ने इस मामले में प्रदेश के आबकारी मंत्री जगदीश देवड़ा (jagdish devda) से इस्तीफा मांगा है।

मंदसौर से पिपलिया मंडी थाना क्षेत्र के अंतर्गत खकराई गांव में जहरीली शराब पीने से हुई मौतों को लेकर आबकारी मंत्री जगदीश देवड़ा विपक्ष के निशाने पर हैं। जहां कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष कमल नाथ जहरीली शराब के कारोबार में सियासत और अधिकारियों की गठजोड़  की बात कह चुके हैं वहीं अब राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिह ने इस मामले में आबकारी मंत्री जगदीश देवड़ा की भूमिका पर सवाल उठाए हैं। दिग्विजय सिंह ने ट्वीट करके लिखा है कि “अवैध शराब का धंधा पुलिस व आबकारी विभाग के संरक्षण में चलता है और करोड़ों रुपए की रिश्वत प्रतिमाह वसूली जाती है।

Read More: खंडवा में नवजात को बेचने के मामले में आरोपी मीडियाकर्मी फरार, पुलिस जुटी तलाश में

क्या आबकारी मंत्री जी को अपने ही निर्वाचन क्षेत्र में धड़ल्ले से चल रहे अवैध शराब के धंधे की जानकारी नहीं थी! क्या यह संभव है? क्या मंत्री जी को इस्तीफा नहीं देना चाहिए?” दिग्विजय ने आगे लिखा है कि “प्रदेश में अवैध शराब का बहुत बड़े पैमाने पर धंधा चल रहा है। जनवरी 2021 में नूराबाद थाना मुरैना में 26 लोगों की जान गई थी और अब भाजपा सरकार के आबकारी मंत्री के मल्हारगढ़ निर्वाचन क्षेत्र पिपलिया मंडी थाना क्षेत्र में 11 लोगों की मौत का समाचार है।”

हालांकि प्रदेश सरकार ने इस मामले को गंभीरता से लिया है और जिला आबकारी अधिकारी को इन्दौर अटैच करने के साथ-साथ कुछ पुलिसकर्मियों को निलंबित भी किया है। इतना ही नहीं, मुख्यमंत्री के निर्देश पर अतिरिक्त मुख्य सचिव गृह राजेश राजौरा के नेतृत्व में तीन सदस्य आईपीएस अधिकारियों की टीम बनाई गई है जो पूरे मामले की जांच कर रिपोर्ट देगी। लेकिन फिलहाल यह मामला सियासी सुर्खियां पकड़ गया है और निशाने पर सीधे आबकारी मंत्री जगदीश देवड़ा है।