भोपाल, गौरव शर्मा। हाल ही में मध्यप्रदेश के शासकीय मोतीलाल विज्ञान महाविद्यालय (Government Motilal Science College) द्वारा एनालिटिकल इंस्ट्रूमेंटेशन (analytical instrumentation) विषय पर तीन दिवसीय ऑनलाइन कार्यशाला (three day online workshop) का आयोजन किया गया। आयोजन महाविद्यालय के रसायन शास्त्र विभाग द्वारा पंजाब विश्वविद्यालय के सहयोग से प्रारंभ कराया गया। ऑनलाइन कार्यशाला का मुख्य उद्देश्य उपकरणों के सिद्धांत और उपयोग से छात्रों को अवगत कराना है।

आपको बता दें विज्ञान विषयों में उपयोग में लाए जाने वाले आधुनिक उपकरण न केवल संवेदनशील बल्कि काफी महंगे भी होते हैं, और यही कारण हैं कि यह हर महाविद्यालय में उपलब्ध नहीं है।और यही कारण है कि पंजाब विश्वविद्यालय द्वारा इन उपकरणों के इस्तेमाल का सीधा प्रसारण कर उपकरणों की कार्यप्रणाली, संचालन, उपयोगिता, और प्राप्त परिणामों का विश्लेषण कैसा किया जाए इस बारे मोतीलाल विज्ञान महाविद्यालय के छात्रों को बताया गया, साथ ही किन परिणामों का क्या असर होता है इसके बारे में भी जानकारी दी गई।

Read More: पूर्व मंत्री का दावा- Kamalnath बनेंगे मुख्यमंत्री, दिग्विजय पर बड़ा बयान

जैसा का हम सभी को ज्ञात है कि आधुनिक युग में विभिन्न प्रकार की स्कैनिंग की बात हो या फोरेंसिक साइंस, या बात हो मेडिकल साइंस से जुड़े विभिन्न उद्योगों कि, बिना नवीन उपकरणों के इनका महत्व न के बराबर रह जाता है।कार्यक्रम का उद्देश्य इन्हीं नवीन उपकरणों की जानकारी छात्रों तक पहुंचाना है।

कार्यक्रम में डॉ.गंगाराम चौधरी एवं डा.पूनम तिवारी द्वारा इन्फ्रारेड स्पेक्ट्रोस्कॉपी के सिद्धांत के बारे में बता कार्यप्रणाली को समझाया गया, एवं विज्ञानिक विश्लेषण कैसे किया जाए इसकी जानकारी दी गई।कार्यशाला में पंजाब विश्वविद्यालय से डॉ.अंजली द्वारा उपकरणों की कार्यप्रणाली समझाई गई, साथ ही प्रणाली के परिणाम पर कारकों का क्या असर पड़ता है उन्होने इस बारे में भी विस्तृत जानकारी दी।

Online Workhop का आयोजन, संवेदनशील एवं आधुनिक उपकरणों के बारे में दी गई छात्रों को विस्तृत जानकारी

कार्यक्रम में मोतीलाल महाविद्यालय के प्राचार्य डा महेंद्र सिंह ने रूस एवं विश्वबैंक परियोजना से मिल रही सहायता के बारे में जानकारी दी।कार्यक्रम के दौरान पंजाब विश्वविद्यालय के डीन डॉ. जी.आर.चौधरी ने अपना उद्बोधन देते हुए कहा कि, जब भी भविष्य में मोतीलाल विज्ञान महाविद्याल को पंजाब विश्वविद्यालय के सहयोग की जरूरत रहेगी हमारे द्वारा छात्रहित में तब सहयोग अवश्य दिया जाएगा।