World Water Day 2021: आठ अरब लीटर पानी संरक्षित करता है भोपाल का ‘जल संतोष’

फिल्टर को आधार बनाकर इलेक्ट्रिक इंजीनियर संतोष ने एक नया सिस्टम तैयार किया। उन्होंने छत में लगे पाइप में फिल्टर को लगाया और सीधे ट्यूबवेल बोर में उतार दिया।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। हर वर्ष 22 मार्च ‘ वर्ल्ड वॉटर डे ‘ के रूप में मनाया जाता है। पानी (water) के लिए विशेष दिन रखने का मुख्य उद्देश्य है स्वच्छ पानी (fresh water) के महत्व (importance) को समझना, समझाना और पानी के बचाव हेतु नए कदम उठाना। इसके साथ ही पानी के संधारणीय प्रबंधन (sustainable management) पर ज़ोर देना और जल संरक्षण (water conservation) भी इस दिन को मनाने का एक मुख्य कारण है। इस दिन के ज़रिए पानी से जुड़े अन्य मसलों पर भी विचार किया जा सकता है। क्योंकि पानी मात्र प्यास बुझाने का काम नहीं करता बल्कि रोज़गार पैदा करता है, आर्थिक, सामाजिक और मानवीय विकास की बहुत ही महत्वपूर्ण कड़ी माना जाता है। जल दिवस पर सीएम शिवराज सिंह चौहान ने भी जनता से पानी बचाने की अपील की है।

जल संरक्षण की मिसाल बने भोपाल के संतोष वर्मा:
कोलार निवासी 52 वर्षीय संतोष वर्मा ने करीब 22 साल पहले पानी के महत्व को समझते हुए अपने घर मे वॉटर हार्वेस्टिंग सिस्टम लगवाया था। लेकिन सोकपिट पर आधारीत यह सिस्टम 2 साल में ही ठप हो गया। इसके बाद फिल्टर को आधार बनाकर इलेक्ट्रिक इंजीनियर संतोष ने एक नया सिस्टम तैयार किया। उन्होंने छत में लगे पाइप में फिल्टर को लगाया और सीधे ट्यूबवेल बोर में उतार दिया। उनका ये प्रयास सफल रहा और देखते ही देखते उनकी इस तकनीक को भोपाल नगर निगम के साथ साथ कई राज्यों में मान्यता मिल गयी।

यह भी पढ़ें… टैक्सी ड्राइवर से न्यूजीलैंड की पहली भारतीय महिला पुलिसकर्मी बनने तक, जानिये मनदीप की कहानी

इंजीनियर संतोष के अनुसार बारिश में उनकी छत से जुड़े फिल्टर पाइप के माध्यम से करीब 8 लाख लीटर पानी जमा हो जाता है जो बिना किसी प्रयत्न के सीधे भू-जल से मिलता है। उनकी इस तकनीक से प्रभावित हो कर करीब 10 हजार परिवार इसी तरीके से 8 अरब लीटर तक पानी संरक्षित कर रहे हैं। उन्होंने अपनी इस तकनीक का पेटेंट ‘जल संतोष’ के नाम से करवाया है।

World water day पर सीएम शिवराज सिंह चौहान (cm shivraj singh chouhan) ने ट्वीट करते हुए कहा है कि जल संरक्षण हमारा दायित्व ही नहीं, कर्तव्य भी है। जल की हर बूंद में जीवन है। जल बचेगा तो जीवन बचेगा और हमारी भावी पीढ़ी खुशहाल अधिक खुशहाल व समृद्ध होगी।