MP: कृषि मंत्री कमल पटेल का बड़ा ऐलान- 23 मार्च से किसानों को मिलेगा लाभ

वही  कमल पटेल ने कहा कि हरदा के गुप्तेश्वर मंदिर (Harda Gupteshwar Temple) के सौंदर्यीकरण के कार्य में किसी प्रकार की कोई कमी नहीं आने दी जाएगी।

कृषि मंत्री

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के कृषि मंत्री कमल पटेल (Agriculture Minister Kamal Patel) का बड़ा बयान सामने आया है। कमल पटेल(Kamal Patel) ने कहा है कि किसानों (Farmers) को मूँग की फसल के लिए पर्याप्त मात्रा में पानी उपलब्ध कराया जाएगा। इसके लिए तवा डैम (Tawa dam) से नहरों में पानी छोड़ा जाएगा। इसके अतिरिक्त नालों में पानी को व्यर्थ न बहने दिया जाए, उसे लिफ्ट कर नहरों में छोड़ा जाएँ ताकि किसानों को सिंचाई के लिए अधिकतम जल उपलब्ध हो सके।

यह भी पढ़े.MP के अफसरों-मंत्रियों को बड़ा झटका, शिवराज सरकार उठाने जा रही है यह कदम

दरअसल, कृषि मंत्री कमल पटेल रविवार को हरदा जिला पंचायत (Harda District Panchayat) सभागृह में मूँग फसल के लिए तवा बाँध से सिंचाई के लिए जिला जल एवं उपयोगिता समिति की बैठक को संबोधित कर रहे थे। कमल पटेल ने आगे कहा कि हरदा एवं होशंगाबाद (Harda and Hoshangabad) जिले को समान मात्रा में बराबर सिंचाई के लिए पानी उपलब्ध होगा। बैठक में आम सहमति के आधार पर निर्णय लिया गया कि 23 मार्च 2021 से तवा डैम के माध्यम से नहरों में पानी छोड़ा जाएगा। बैठक में विधायक (BJP MLA) टिमरनी  संजय शाह, जिला अधिकारी एवं जन-प्रतिनिधि उपस्थित रहे।

बैठक में सिंचाई विभाग के द्वारा बताया गया कि विगत वर्ष मूँग फसल के लिए जिले को 50 हजार हेक्टर भूमि के लिए पानी उपलब्ध हुआ था। हरदा जिले में 28 हजार हेक्टर भूमि को सिंचाई हेतु जल प्राप्त हुआ था। विगत वर्ष 60 दिवस के लिए जल प्राप्त हुआ था।इस वर्ष 65 से 70 हजार हेक्टर भूमि को सिंचित किया जा सकता है।

यह भी पढ़े.. MP College : छात्रों को लेकर विभाग का एक और फैसला, 10 मार्च तक देना होगी डिटेल्स

वही  कमल पटेल ने कहा कि हरदा के गुप्तेश्वर मंदिर (Harda Gupteshwar Temple) के सौंदर्यीकरण के कार्य में किसी प्रकार की कोई कमी नहीं आने दी जाएगी। उन्होंने रविवार को हरदा शहर के गुप्तेश्वर मंदिर प्रांगण में पेवर ब्लॉक कार्य का भूमि पूजन किया। गुप्तेश्वर मंदिर हरदा शहर के वासियों की आस्था का प्रतीक है। मंदिर प्रांगण में आवागमन के लिए नए पुल का निर्माण कराया जाएगा, जिसमें वाहनों  एवं आमजन के आवागमन की सुविधाएँ अलग-अलग होगी।