MP News: 6 महिला जज एक साथ बर्खास्त, सेवा समाप्ति के आदेश जारी, ये है वजह, पढ़ें पूरी खबर

MP News: मध्यप्रदेश के अलग-अलग जिलों में पदस्थ 6 महिला जजों को बर्खास्त कर दिया गया है। एमपी के राजपत्र में इस संबंध में अधिसूचना जारी की गई है। विधि और विधायी कार्य विभाग ने हाई कोर्ट की प्रशासनिक समिति की बैठक और फुलकोर्ट मीटिंग द्वारा लिए गए फैसले के बाद कार्यवाही की है।

ये है वजह

मिली जानकारी के मुताबिक सभी महिला जज प्रोबेशन पीरियड पर थी। सभी द्वारा अपनी-अपनी परिवीक्षा अवधि का निर्वहन संतोषजनक और सफलतापूर्वक न कर पाने के परिणाम स्वरूप यह फैसला लिया गया है।  सेवा से पृथक करने के लिए शासन द्वारा अनुशंसा की गई थी, जिसे बाद ही सभी महिला जजों के सेवा समाप्ति के आदेश जारी किए गए हैं।

इन्हें किया गया बर्खास्त

उमरिया में पदस्थ न्यायिक सेवा के सदस्य द्वितीय व्यवहार जज सरिता चौधरी, रीवा में पदस्थ रचना अतुल कर जोशी, टीकमगढ़ में पदस्थ अदिति कुमार शर्मा, मुरैना में पदस्थ सोनाक्षी जोशी, इंदौर में पदस्थ प्रिय शर्मा और टिमरनी हरदा में पदस्थ ज्योति बरखड़े की सेवा समाप्त कर दी गई है।


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News