Korean Beauty Secret: चेहरे पर आएगा ग्लो, मिलेगी स्वस्थ त्वचा, घर पर आजमाएं ये 5 कोरियन उपाय

Manisha Kumari Pandey
Published on -

Korean Beauty Secret:कोरियन महिलाओं की त्वचा बेहद ही ग्लोइंग होती है। साथ ही बेदाग भी नजर आती है। कोरिया का मेकअप स्किल्स काफी अच्छा है। लेकिन यहां की महिलाएं अपने त्वचा को स्वस्थ रखने के लिए अलग-अलग उपाय करती हैं। आइए एक नजर इन्हीं उपायों पर डालें।

फेशियल मसाज जरूरी

फेशियल मसाज मसाज कोरियन ब्यूटी में बहुत ही महत्वपूर्ण किरदार निभाता है। कोरिया की लड़कियां ग्लोइंग स्किन पाने के लिए हॉट टॉवल मसाज लेती है। इसमें इसमें टॉवल के ऊपर से ही चेहरे की मसाज की जाती है।

चावल का पानी चमत्कारी

चावल का पानी कोरियन महिलाओं के स्किन केयर रूटीन का अहम हिसा होता है। इसका इस्तेमाल करना चेहरे के लिए बेहद फायदेमंद माना जाता। इसके लिए रात में चावल के पानी को भिगोकर रख दें और सुबह इसी से चेहरा धोएं।

मॉइस्चराइज़र लगाने का तरीका

इनका मॉइस्चराइज़र लगाने का तरीका भी काफी अलग होता है। सबसे पहले महिलायें मॉइस्चराइजिंग क्रीम को अपनी उंगलियों पर लगाती है और फिर ऊपर से नीचे की ओर लगाते चेहरे का मसाज करती हैं।

डबल क्लीनजिंग का जादू

अपने चेहरे को साफ करने के लिए कोरियन महिलाएं डबल क्लीनजिंग को स्किन केयर रूटीन में शामिल करती हैं। वाटर बेस्ट क्लींजर का इस्तेमाल चेहरे को साफ करने के लिए करती है। वहीं ऑयल बेस्ड क्लींजर का इस्तेमाल मेकअप रिमूव करने के लिए करती हैं।

जमसू टेक्निक

कोरियन महिलायें मेकअप के दौरान “जमसू” तकनीक का इस्तेमाल करती हैं। इसमें प्राइमर, फाउंडेशन और कंसीलर लगाने के बाद बेबी पाउडर का छिड़काव करती है और फिर 15 सेकंड के लिए ठंडे पानी के एक कटोरे में अपना चेहरा डुबो देती हैं। उसके बाद चेहरे को थपथपा कर सुखाने के बाद बाकी मेकअप स्किन पर अप्लाई करती है।

(Disclaimer: इस लेख का उद्देश्य केवल जानकारी साझा करना है। MP Breaking News इन बातों की पुष्टि नहीं करता। विशेषज्ञों की सलाह जरूर लें। )

 

 


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News