कोरोना वॉरियर्स सम्मान कार्यक्रम का आयोजन, मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने तारीफ करते हुए कही ये बात

अशोकनगर में कोरोना वॉरियर्स का सम्मान समारोह कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में जिले के प्रभारी मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर, विधायक जज्जी पाल समेत कई गणमान्यजन मौजूद रहे।

अशोकनगर, हितेंद्र बुधौलिया। कोरोना की दूसरी लहर के दौरान जिला चिकित्सालय के डॉक्टरों व अन्य चिकित्सीय स्टाफ सहित कोरोना काल में सेवा कार्य करने वाले संगठनों और लोगों का पछार क्लब द्वारा सम्मान समारोह कार्यक्रम आयोजित किया गया। इस कार्यक्रम को मानवता दिवस के अवसर पर सुभाषगंज के राम लीला मंच पर आयोजित किया गया।

ये भी देखें- फेसबुक और इंस्टाग्राम ने राहुल गांधी का पोस्ट हटाया, रेप पीड़िता की पहचान जाहिर करने का मामला

कार्यक्रम में जिले के प्रभारी मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित रहे। इस दौरान पीएचई राज्यमंत्री बृजेंद्र सिंह यादव, बीजेपी के जिला अध्यक्ष उमेश रघुवंशी समेत अन्य विशिष्ट अतिथि के रूप में मौजूद थे। इस कार्यक्रम को क्षेत्रीय विधायक एवं पछार क्लब के संरक्षक जजपाल सिंह की अध्यक्षता में आयोजित किया गया।

कार्यक्रम में स्वागत भाषण के दौरान विधायक जज्जी पाल ने कहा कि- शहर के डॉक्टरों एवं स्टाफ ने उस समय अपनी सेवाएं दी जब वास्तव में उनकी सबसे ज्यादा जरूरत थी। यह सभी सम्मान के हकदार हैं। इन लोगों ने इस भीषण संकट में अपनी सेवाएं जारी रखीं और इस संकट से कई जिंदगियों को बचाया साथ ही अपने और अपने स्टाफ के हौसले को बनाए रखा और इस भयानक संकट को खत्म करने के लिए दिन-रात एक कर दिया।  उन्होंने कहा कि पछार क्लब कोरोना वॉरियर्स का सम्मान कर गौरवान्वित महसूस कर रहा है। हमने मानवता के सच्चे सेवकों का सम्मान किया और उनका सम्मान कर हमने हमारा कद बढ़ाया कोरोना वॉरियर्स के आगे यह सम्मान एक तिनका मात्र है। उन्होंने जो काम किया है वह सदैव याद रखा जाएगा।

ये भी देखें- कांग्रेसियों ने मनाई पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की जयंती, जन आशीर्वाद यात्रा के उग्र विरोध का लिया संकल्प

पछार क्लब द्वारा आयोजित कोरोना वॉरियर्स सम्मान समारोह में प्रभारी मंत्री प्रद्युमन सिंह तोमर ने कहा अच्छी सेवा का उदाहरण डॉक्टरर्स, नर्सेस, पैरामेडिकल स्टाफ और समाजसेवी लोगों ने दिया है। उन्होंने कहा- मैं ग्वालियर जिले का कोरोना प्रभारी रहा, उस दौरान मैंने भी बहुत ही नजदीक से ऐसे मंजर देखे जिन्हें बयां करना भी पीड़ादायक है। 10-12 घण्टे पीपीई किट पहनकर, घर परिवार से दूर रहकर कोरोना संक्रमण की विषम परिस्थितियों में अपनी जान की परवाह किए बगैर लोगों की सेवा के लिए अडिग रहकर अपने कर्तव्यों का पालन करने वाले डॉक्टर, नर्सिंग स्टाफ, वार्ड बॉय, सफाईकर्मियों को बारम्बार प्रणाम करता हूँ|

इस आयोजन में चिकित्सीय स्टाफ के अलावा विभिन्न समाजसेवी एवं सामाजिक संगठनों का भी सम्मान किया गया। ये वह लोग है जिन्होंने कोरोना संकट के दौरान अलग-अलग क्षेत्रों में अपनी सेवाएं दी थी, इसमें वह लोग शामिल थे जिन्होंने संकट के दौर में घरों से निकालकर औक्सीजन उपलब्ध कराई, भोजन कराया ,अस्पताल  की व्यवस्थाओ में सहयोग किया और जरूरत के साधन उपलब्ध कराए।