चाट की दुकान से हजारों रुपए ले उड़ा चोर, सीसीटीवी में कैद हुई घटना

Amit Sengar
Published on -
thief

Bhopal News : मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में चोरों के हौसले इस कदर बुलंद है कि उनको पुलिस का तनिक भी खौफ नहीं है। वे आए दिन चोरी की घटनाओं को बेखौफ होकर अंजाम दे रहे हैं। ताजा मामला बैरागढ़ का है जहाँ चोर ने पुलिस चौकी के पीछे बनी चाट की दुकान को निशाना बनाया और नकदी पर हाथ साफ कर दिया। दुकान मालिक ने इसकी शिकायत थाने में की है। पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

यह है पूरा मामला

पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक बीती रात पुलिस गश्त को चैलेंत देते हुए चोर ने प्रमुख चौराहे पर स्थित पुलिस चौकी के पीछे चाट की दुकान पर चोरी की वारदात को अंजाम देकर रात्रि गश्त पर सवाल खड़े कर दिए। जबकि इस समय चुनावी माहौल के बीच पुलिस की चौकसी बड़ी हुई है इसके बाद भी चोर ने वारदात को अंजाम दे दिया। चोरी की वारदात सीसीटीवी में कैद हो गई है और दुकान मालिक ने इसकी सूचना पुलिस को दे दी है।

बता दें कि अज्ञात चोर ने चोरी की वारदात को अंजाम देने के लिए अलग तरीका अपनाया है और बेफ्रिक होकर चोरी की है। बुधवार अल्प सुबह अज्ञात चोर ने पहले नीलम चाट हाउस के शटर का ताला खोला और अंदर प्रवेश कर गया। उसके बाद एल्युमीनियम के लगे गेट का कांच तोडक़र वहां पहुंचा जहाँ पर काउंटर रखा था और वहां पर रखी 15 से 20 हजार नगदी लेकर फरार हो गया। सीसीटीवी में साफ नजर आ रहा है कि अज्ञात चोर बेफ्रिक होकर नगद राशि निकालकर पन्नी में भरकर रखता जा रहा था फिर शटर का ताला लगाकर गायब हो गया।

अंदर कैसे गया चोर

बिना शटर का ताला तोड़े चोर अंदर कैसे गया यह बड़ा सवाल है। या चोर के पास मास्टर चाबी थी और उसे पता था कि काउंटर कहा रखा है बड़ी बात तो यह थी कि वारदात की जानकारी दुकान खोलने के काफी देर बाद लगी जब रमेश बेलानी के मामा रतन होतवानी ने गेट टूटा हुआ देखा फिर संचालक रमेश को इसकी जानकारी दी। और उसके बाद पुलिस को सूचना दी गई। पुलिस भी सीसीटीवी कैमरे के आधार पर चोर की तलाश कर रही है।
भोपाल से रवि कुमार की रिपोर्ट


About Author
Amit Sengar

Amit Sengar

मुझे अपने आप पर गर्व है कि में एक पत्रकार हूँ। क्योंकि पत्रकार होना अपने आप में कलाकार, चिंतक, लेखक या जन-हित में काम करने वाले वकील जैसा होता है। पत्रकार कोई कारोबारी, व्यापारी या राजनेता नहीं होता है वह व्यापक जनता की भलाई के सरोकारों से संचालित होता है। वहीं हेनरी ल्यूस ने कहा है कि “मैं जर्नलिस्ट बना ताकि दुनिया के दिल के अधिक करीब रहूं।”

Other Latest News