MP Nursing Students : छात्राओं ने NSUI नेता से की मुलाकात, नर्सेज रजिस्ट्रेशन न मिलने पर नर्सिंग काउंसिल के बाहर भूख हड़ताल की दी चेतावनी

अगर जल्द से जल्द हमारा रजिस्ट्रेशन हमें नहीं मिलता है तो हम अपने पेरेंट्स के साथ भोपाल आकर नर्सिंग काउंसलिंग के बाहर भूख हड़ताल करेंगे।

Amit Sengar
Published on -
nursing student

MP Nursing News : मध्य प्रदेश के बहुचर्चित नर्सिंग महाघोटाले में एक के बाद एक नए मोड़ आ रहे हैं। वहीं जगतगुरु कॉलेज की नर्सिंग छात्राओं ने कांग्रेस कार्यालय पहुंचकर NSUI नेता रवि परमार से चर्चा की। छात्राओं ने आरोप लगाया कि 10 महीने से ज्यादा का समय हो गया है लेकिन आज दिनांक तक मध्य प्रदेश नर्सेज रजिस्ट्रेशन काउंसिल भोपाल ने हमारा रजिस्ट्रेशन प्रमाणित करने से मना कर दिया था। जिसके चलते हम कई जॉब नहीं कर पा रहे है। अगर जल्द से जल्द हमारा रजिस्ट्रेशन हमें नहीं मिलता है तो हम नर्सिंग काउंसिल व सीएम भवन के बाहर भूख हड़ताल करेंगे।

क्या है पूरा मामला

छात्रा सोनू चौहान ने बताया कि मैं जगद्गुरु दत्तात्रेय कॉलेज की 2018-19 बैच की छात्र हूँ। जिसे नर्सिंग महाघोटाले में शासन ने सील कर दिया गया है। सितम्बर 2023 में ही मुझे चौथे वर्ष की मार्कशीट मिल गई है। लेकिन 10 महीने हो गए है अभी तक नर्सिंग काउंसिल से रिजल्ट नहीं मिला है। जिसके कारण हमें रजिस्ट्रेशन नहीं मिला है, आगे उन्होंने कॉलेज पर आरोप लगते हुए कहा कि हमारे द्वारा कॉलेज की पूरी फीस में जमा करा दी गई। कॉलेज के द्वारा स्कॉलरशिप भी नहीं दी गई।

नर्सिंग छात्राओं ने NSUI नेता रवि परमार से चर्चा करते हुए बताया कि 2018-19 बैच के छात्र है। हमारा सितम्बर 2023 में ही चौथे वर्ष की मार्कशीट मिल गई है। लेकिन 10 महीने हो गए है अभी तक नर्सिंग काउंसिल से रिजल्ट नहीं मिला है। जिसके चलते मध्य प्रदेश नर्सेज रजिस्ट्रेशन काउंसिल भोपाल ने हमारा रजिस्ट्रेशन प्रमाणित करने से मना कर दिया। इस कारण नर्सिंग छात्राओं ने चेतावनी दी है कि अगर जल्द से जल्द हमारा रजिस्ट्रेशन हमें नहीं मिलता है तो हम अपने पेरेंट्स के साथ भोपाल आकर नर्सिंग काउंसलिंग के बाहर भूख हड़ताल करेंगे।


About Author
Amit Sengar

Amit Sengar

मुझे अपने आप पर गर्व है कि में एक पत्रकार हूँ। क्योंकि पत्रकार होना अपने आप में कलाकार, चिंतक, लेखक या जन-हित में काम करने वाले वकील जैसा होता है। पत्रकार कोई कारोबारी, व्यापारी या राजनेता नहीं होता है वह व्यापक जनता की भलाई के सरोकारों से संचालित होता है। वहीं हेनरी ल्यूस ने कहा है कि “मैं जर्नलिस्ट बना ताकि दुनिया के दिल के अधिक करीब रहूं।”

Other Latest News