Satpura Bhawan Fire: सतपुड़ा भवन में लगी भीषण आग, हजारों सरकारी फाइलें जलकर खाक, सीएम शिवराज के बुलाई रिव्यू बैठक

Satpura Bhawan Fire: मध्यप्रदेश के राजधानी भोपाल में स्थित सतपुड़ा भवन में सोमवार शाम 4 बजे लगी आग अब तक काबू में नहीं आई है। मंगलवार को 6वें फ्लोर से अभी भी लपटें उठ रही है। मिली जानकारी के मुताबिक आज सुबह 8 बजे तक दमकल टीम ने आग पर काबू पा लिया था, लेकिन करीब 9:30 बजे आग फिर भड़क उठी।

सीएम की रिव्यू बैठक जारी

सीएम शिवराज द्वारा घटना को गंभीरता पूर्वक लेते आज सुबह 10 बजे रिव्यू बैठक बुलाई है, जो अभी जारी है। इससे पहले पिछली रात गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा, चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग और स्वास्थ्य मंत्री प्रभुराम चौधरी घटना का जायजा लेने पहुंचे। सीएम के निर्देश पर गठित अफसरों की टीम भी जांच के लिए घटनास्थल पर पहुंची। आज दोपहर 1 बजे जांच शुरू होगी।

शॉर्ट सर्किट के कारण लगी आग

सूत्रों के अनुसार आग शॉर्ट सर्किट के कारण लगी, जो AC  कंप्रेसर ब्लास्ट होने के कारण फैलती चली गई है। तीसरे मंजिल के भड़की आग छठी मंजिल तक पहुँच चुकी है। चौथी मंजिल में रखी तीन विभागों की करीब 12 हजार फ़ाइलें जलकर खाक हो चुकी हैं। बता दें कि चौथी मंजिल पर हेल्थ डिपार्टमेंट की शिकायत शाखा है, यहाँ कर्मचारियों-अधिकारियों के खिलाफ की गई शिकायतों से संबंधित दस्तावेज रखे जाते हैं।

कॉंग्रेस ने जताई साजिश की आशंका, बीजेपी ने बताया आरोपों को निराधार

इस घटना के पीछे कॉंग्रेस साजिश की आशंका जता रही है। पूर्व मंत्री अरुण सुभाष यादव ने ट्वीट किया, “आज प्रियंका गांधी जी ने जबलपुर में “विजय शंखनाद रैली” में घोटाले को लेकर हमला बोला तो सतपुड़ा भवन में भीषण आग लग गई, जिसमें जरूरी फ़ाइलें जलकर रख हो गई है। कहीं आग के भने घोंटालों के दस्तावेज जलाने की साजिश तो नहीं! आग मध्यप्रदेश में बदलाव के संकेत दे रही है।” वहीं पीसी शर्मा ने इस घटना पर सवाल उठायें हैं। स्वास्थ्य मंत्री ने सभी आरोपों को निराधार बताया है।

सरकार ने मांगी एयरफोर्स और केंद्र से मदद

16 घंटे के बाद नगर निगम, फायर ब्रिगेड की टीम और पुलिस की टीम सुबह 5 बजे तक आग पर काबू पाने में सफल रही। लेकिन 6वें फ्लोर से अभी भी धुआँ निकल रहा है। राज्य सरकार ने एयरफोर्स ने भी मदद मांगी, लेकिन नहीं मिल पाई। वहीं सीएम शिवराज ने पीएम मोदी के घटना को लेकर फोन पर चर्चा की और केंद्र से मदद मांगी।

 

 

 


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News