विशेष सुविधाओं के बदले कैदी से मांगी घूस, रंगे हाथों पकड़ा गया जेल का सफाई कर्मी

डेस्क रिपोर्ट,इंदौर। इंदौर के नजदीक महू कस्बे स्थित उप कारागार में बंद विचाराधीन कैदी को ‘विशेष सुविधाएं’ दिलवाने के मामले में आज एक सफाईकर्मी को रंगे हाथों पकड़ा गया है। सफाईकर्मी को उसके दोस्त से 25000 रुपए की कथित घूस लेते हुए पकड़ा गया। । लोकायुक्त पुलिस के उपाधीक्षक (डीएसपी) प्रवीण सिंह बघेल ने बताया कि महू स्थित उप जेल के बाहरी परिसर में पकड़े गए इस शख्स की पहचान मनीष बाली के रूप में की गई है।

ये भी पढ़े-Indore News:इंदौर में खाद्य विभाग की बड़ी छापेमार कार्रवाई, नकली कत्था पेस्ट बनाने वाली फैक्ट्री पर मारा छापा

साथ ही उन्होंने बताया कि मनीष जेल का सफाई कर्मी है और उस पर आरोप है कि वह जेल प्रहरी अजेंद्र सिंह राठौर के इशारे पर जितेंद्र सोलंकी नामक शख्स से घूस के रूप में 25000 रुपए ले रहा था। बघेल ने बताया कि सोलंकी ने लोकायुक्त पुलिस से इस बात की शिकायत की थी। उसने बताया था कि महू के उप जेल में बंद उसके दोस्त दिलीप चौकसे से इस कारागार का प्रहरी कथित तौर पर घूस मांग रहा है। उसका दोस्त चौकसे, किशनगंज थाना क्षेत्र में शराब तस्करी को लेकर पिछले साल जून में दर्ज मामले में गिरफ्तारी के बाद से इस जेल में बंद है।

डीएसपी ने बताया, शिकायतकर्ता के मुताबिक यह घूस विचाराधीन कैदी को जेल में विशेष सुविधाएं मुहैया कराने और आइंदा परेशान नहीं किए जाने के बदले मांगी गई थी। इन तथा कथित सुविधाओं में अन्य कैदियों के मुकाबले बेहतर बैरक और उम्दा भोजन शामिल हैं। इस मामले में सफाई कर्मी और जेल प्रहरी के खिलाफ भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम के तहत प्राथमिकी दर्ज कर लिया गया है।

बघेल ने यह भी साफ किया कि दोनों आरोपियों को अभी गिरफ्तार नहीं किया गया है। डीएसपी के मुताबिक बॉन्ड भराकर उन्हें इस बात के लिए कानून पाबंद किया गया है कि घूसखोरी के मामले की जांच के संबंध में उन्हें जब भी बुलाया जाएगा, वे लोकायुक्त पुलिस के सामने तय तारीख को हाजिर होंगे।