दबंगों ने पहनाई आदिवासियों को जूतों की माला, मामला दर्ज, पुलिस कार्यवाही जारी

Bhitarwar News: ग्वालियर के डबरा में मुस्लिम युवक की पिटाई का वीडियो वायरल होने का मामला अब तक ठंडा नहीं पड़ा था कि भितरवार विधानसभा में आदिवासियों पर अत्याचार की एक खबर सामने आई है। जानकारी के मुताबिक गांव के कुछ दबंगों ने न केवल इन आदिवासियों की जमीन पर कब्जा किया, बल्कि इनकी झोपड़ियों में आग लगाकर इनके साथ मारपीट कर गले में जूते चप्पलों की माला तक पहनाई।

घटना भितरवार के गोहिंदा गांव की

घटना भितरवार के गोहिंदा गांव की है, जहां एक आदिवासी परिवार की 5 बीघा जमीन हड़पने के इरादे से दबंगों द्वारा उन्हें प्रताड़ित किया जा रहा है। यह परिवार इस जमीन पर पिछले 1 वर्ष से रह रहा है। बताया जा रहा है कि यह जमीन मुख्य मार्ग पर होने के कारण बेशकीमती है, जिसको लेकर आदिवासियों को प्रताड़ित कर उनकी जमीन हथियाने का प्रयास किया जा रहा है।

आदिवासियों को पहनाई जूतों की माला

झोपड़ी जलाने और मारपीट की घटना की जानकारी देने के लिए पूरा परिवार थाने पहुंचा जहां। उन्होनें बताया कि, “जिस गांव में इनकी जमीन है वहां रहने वाले तिवारी परिवार की निगाहें इनकी जमीन पर हैं और वह लगातार इन्हें वहां से हटाने का प्रयास कर रहे हैं। आपको बता दें सर्वे क्रमांक 1153/1 की भूमि पर बनवारी और लक्ष्मण आदिवासी का परिवार निवास करता है। इन लोगों के द्वारा बताया गया कि, “बीती रात तिवारी परिवार के कुछ लोगों ने न केवल लक्ष्मण और बनवारी के परिवार के साथ मारपीट की, बल्कि उन्हें जूतों की माला तक पहनाई। जिसके बाद यह लोग अपनी फरियाद लेकर थाने पहुंचे, जहां पुलिस द्वारा नानू तिवारी और अन्य चार लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है।

दबंगों ने पहनाई आदिवासियों को जूतों की माला, मामला दर्ज, पुलिस कार्यवाही जारी

एसपी चंदेल ने कहा ‘मामला दर्ज किया गया है’

इस पूरी घटना पर ग्वालियर एसपी चंदेल ने मीडिया से बात करते हुए बताया कि, “यह घटना शुक्रवार रात की है। घटना की जानकारी मिलते ही आरोपी पक्ष पर प्रकरण दर्ज कर लिया गया है।” चंदेल ने यह भी बताया कि, “यह मामला पिछले काफी समय से चला आ रहा है, जिसमें आदिवासी इस जमीन का पट्टा उनके नाम होने की बात करते हैं।”


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News