दिग्विजय सिंह मानहानि मामला : फरियादी ने कोर्ट में पेश किये साक्ष्य, दर्ज कराये बयान

Gwalior News :  मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एवं कांग्रेस के राज्य सभा सदस्य दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) से जुड़े मानहानि के एक मामले में आज फरियादी एडवोकेट अवधेश सिंह भदौरिया ने ग्वालियर जिला न्यायालय की स्पेशल कोर्ट (MP/MLA) ने अपने साक्ष्य कोर्ट में पेश किए और बयान दर्ज किए है।

स्पेशल कोर्ट में दर्ज हुए फरियादी के बयान

दरअसल भिंड में 2019 में दिग्विजय सिंह ने भाजपा, आरएसएस और बजरंग दल पर पाकिस्तान के लिए जासूसी करने के गंभीर आरोप लगाये थे, दिग्विजय सिंह के आरोप के बाद एडवोकेट एवं भाजपा नेता अवधेश सिंह भदौरिया ने ग्वालियर जिला न्यायालय की विशेष अदालत में मानहानि के लिए परिवाद दायर किया था , आज उन्होंने विशेष न्यायिक मजिस्ट्रेट महेंद्र सैनी की कोर्ट में अपने बयान दर्ज कराए।

भाजपा, RSS, बजरंग दल पर लगाये पाकिस्तान के लिए जासूसी के आरोप

मीडिया से बात करते हुए एडवोकेट अवधेश सिंह भदौरिया ने कहा कि 2019 को दिग्विजय सिंह ने भिंड दौरे के दौरान प्रेस कांफ्रेस में कहा था कि भाजपा, आरएसएस और बजरंग दल के कार्यकर्ता पाकिस्तान पाकिस्तान के लिए जासूसी करते हैं और पाकिस्तान की ख़ुफ़िया एजेंसी आईएसआई उन्हें इसके बदले पैसे देती है।

ये कहना है फरियादी एडवोकेट का

ये आरोप मानहानिकारक आरोप थे जिसके खिलाफ मैंने परिवाद दायर किया था, कोर्ट ने भारतीय दंड विधान की धारा 500 के तहत मानहानि का मामला दिग्विजय सिंह के खिलाफ दर्ज किया था दिग्विजय सिंह को न्यायालय में उपस्थित होने का आदेश दिया था, कोर्ट ने दिग्विजय सिंह के आवेदन पर उन्हें जमानत दे दी।

अब दिग्विजय सिंह के बयान होंगे दर्ज

आज हमने साक्ष्य पेश किये हैं, भदौरिया ने कहा कि दिग्विजय सिंह ने अपने राजनीतिक स्वार्थ और मुसलमानों के वोटों के ध्रुवीकरण के लिए ये आरोप लगाये जो आधारहीन हैं इसका कोई प्रमाण भी नहीं है, उन्होंने कोर्ट से कहा कि  इस तरह के मानहानिकारक बयान दिग्विजय सिंह पहले भी कई बार दे चुके हैं वे ऐसा करने में अभ्यस्थ है इसलिए उन्हें कड़ी सजा दी जाये। अब परिवाद दायर करने वाले एडवोकेट अवधेश सिंह भदौरिया के बयान दर्ज होने के बाद दिग्विजय सिंह के बयान दर्ज किये जायेंगे।

ग्वालियर से अतुल सक्सेना की रिपोर्ट  


About Author
Atul Saxena

Atul Saxena

पत्रकारिता मेरे लिए एक मिशन है, हालाँकि आज की पत्रकारिता ना ब्रह्माण्ड के पहले पत्रकार देवर्षि नारद वाली है और ना ही गणेश शंकर विद्यार्थी वाली, फिर भी मेरा ऐसा मानना है कि यदि खबर को सिर्फ खबर ही रहने दिया जाये तो ये ही सही अर्थों में पत्रकारिता है और मैं इसी मिशन पर पिछले तीन दशकों से ज्यादा समय से लगा हुआ हूँ.... पत्रकारिता के इस भौतिकवादी युग में मेरे जीवन में कई उतार चढ़ाव आये, बहुत सी चुनौतियों का सामना करना पड़ा लेकिन इसके बाद भी ना मैं डरा और ना ही अपने रास्ते से हटा ....पत्रकारिता मेरे जीवन का वो हिस्सा है जिसमें सच्ची और सही ख़बरें मेरी पहचान हैं ....

Other Latest News