Gwalior News: बाइक चुराने वाले दो चोर गिरफ्तार, चोरी की बाइक खरीदने वाला भी पुलिस ने पकड़ा, चार बाइक बरामद

पुलिस ने जब चोरी की बाइक खरीदने वाले के बारे में पूछा तो बदमाशों ने उसका नाम समीर खाना बताया, पुलिस जब समीर खान के ठिकाने पर पहुंची तो उन्हें वहां दो और बाइक मिलीं, पुलिस ने समीर को गिरफ्तर कर उसके कब्जे से दोनों बाइक जब्त कर लीं।

Atul Saxena
Published on -
Crime Branch Police Gwalior

Gwalior News : ग्वालियर पुलिस ने एक तीन शातिर बदमाशों को गिरफ्तार गिरफ्तार कर उनके उनके कब्जे से चोरी की चार मोटर साइकिलें बरामद की है, इनमें दो बदमाश बाइक चुरा कर लाते थे और तीसरा उन्स एचोरी की बाइक खरीदकर उसे बेच देता था।

एडिशनल एसपी निरंजन शर्मा ने बताया कि ग्वालियर क्राइम ब्रांच को सूचना मिली थी कि मुरार की जड़ेरुआ बांध के पास दो वाहन चोर चोरी की मोटरसाइकिल बेचने के लिए पहुंचने वाले हैं, सूचना मिलने के बाद टीम एक्टिव हुई और मुखबिर के बताये स्थान पर पहुंचकर छिप गई।

चोरी की बाइक के साथ दो आरोपी गिरफ्तार  

कुछ देर बाद पुलिस को वहां दो व्यक्ति मोटर साइकिल पर आते दिखे, पुलिस टीम ने घेराबंदी कर उन्हें पकड़ लिया , पुलिस ने उनके नाम पूछे तो एक ने अपना नाम अशोक पाल बताया और दूसरे ने नरेंद्र प्रजापति, पुलिस ने जब बाइक के बार में पूछा तो वो चोरी की निकली, पुलिस ने जब उनसे कड़ाई से पूछताछ की चोरों ने बताया कि वो बाइक चुराते हैं और उसे एक व्यक्ति को बेच देते हैं।

चोरी की बाइक खरीदने वाला भी गिरफ्तार  

पुलिस ने जब चोरी की बाइक खरीदने वाले के बारे में पूछा तो बदमाशों ने उसका नाम समीर खाना बताया, पुलिस जब समीर खान के ठिकाने पर पहुंची तो उन्हें वहां दो और बाइक मिलीं, पुलिस ने समीर को गिरफ्तर कर उसके कब्जे से दोनों बाइक जब्त कर लीं। बरामद हुई मोटर साइकिलें मुरार, गोले का मंदिर और ग्वालियर थाना क्षेत्र से चोरी हुई बताई जा रही हैं। पुलिस आरोपियों से चोरी की अन्य वारदातों के संबंध में पूछताछ कर रही है।

Gwalior News: बाइक चुराने वाले दो चोर गिरफ्तार, चोरी की बाइक खरीदने वाला भी पुलिस ने पकड़ा, चार बाइक बरामद


About Author
Atul Saxena

Atul Saxena

पत्रकारिता मेरे लिए एक मिशन है, हालाँकि आज की पत्रकारिता ना ब्रह्माण्ड के पहले पत्रकार देवर्षि नारद वाली है और ना ही गणेश शंकर विद्यार्थी वाली, फिर भी मेरा ऐसा मानना है कि यदि खबर को सिर्फ खबर ही रहने दिया जाये तो ये ही सही अर्थों में पत्रकारिता है और मैं इसी मिशन पर पिछले तीन दशकों से ज्यादा समय से लगा हुआ हूँ.... पत्रकारिता के इस भौतिकवादी युग में मेरे जीवन में कई उतार चढ़ाव आये, बहुत सी चुनौतियों का सामना करना पड़ा लेकिन इसके बाद भी ना मैं डरा और ना ही अपने रास्ते से हटा ....पत्रकारिता मेरे जीवन का वो हिस्सा है जिसमें सच्ची और सही ख़बरें मेरी पहचान हैं ....

Other Latest News