इंदौर में अवैध पटाखा फैक्ट्रियों पर प्रशासन ने मारा छापा, 5 गोदाम सील

कलेक्टर आशीष सिंह के निर्देश पर एसडीएम राकेश परमार ने राऊ क्षेत्र के कई गोदामों की चेकिंग की, इस दौरान उन्होंने राऊ में ही संचालित होने वाले दो गोदाम को सील भी किया।

Amit Sengar
Published on -
indore news

Indore News : हरदा में हुए वीभत्स हादसे के बाद जिला प्रशासन और पुलिस प्रसाशन को मुख्यमंत्री और कलेक्टर के निर्देश के बाद शहर भर में पटाखा गोदाम पर कार्रवाई की जा रही है इसी के तहत एसडीएम और एसीपी की टीम तेजाजी नगर ओर राउ थाना क्षेत्र में कार्रवाई करने के लिए पहुंची ओर बड़ी कार्रवाई करते हुए दोनों ही थाना क्षेत्रो में कई गोदाम ओर संस्थान को सील कर दिया है।

क्या है पूरा मामला

दरअसल, पुलिस और प्रशासन ने कार्रवाई करते हुए तेजाजी थाना क्षेत्र के कई पटाखा गोदाम पर निरीक्षण किया गया जिसमें 5 गोदाम नियम के विरुद्ध संचालित किए जा रहे थे किसी गोदाम में अनुमति प्राप्त नहीं थी तो किसी गोदाम में इलेक्ट्रिसिटी के लाइन गोदाम के अंदर से ही सप्लाई की जा रही थी, जिससे भविष्य में कोई बड़ा हादसा हो सकता था, ऐसे 5 गोदाम को जिला प्रशासन और पुलिस प्रशासन की टीम ने मौके पर ही सील किया है प्रशासन के साथ मिलकर यह करवाई क्षेत्र में की जा रही है जिसमें पांच गोदाम को सील किया गया है आगे भी यह कार्रवाई जारी रहेगी।

इंदौर में पटाखा गोदामों की जांच पड़ताल के लिए युद्ध स्तर पर अभियान शुरू किया है, जिसमें जिला प्रशासन और पुलिस विभाग अलग-अलग टीमों के साथ गोदामों की जांच के लिए मैदान में उतरा इस दौरान दो गोदाम को भी सील किया गया। दरअसल, हरदा में अवैध रूप से संचालित हो रहे एक फैक्ट्री में हुए धमाके के बाद इंदौर में जिला प्रशासन ने जिले की सभी पटाखा दुकानों और फैक्ट्रियों पर कार्रवाई के आदेश दिए है जिसमें आज कलेक्टर आशीष सिंह के निर्देश पर एसडीएम राकेश परमार ने राऊ क्षेत्र के कई गोदामों की चेकिंग की, इस दौरान उन्होंने राऊ में ही संचालित होने वाले दो गोदाम को सील भी किया।
इंदौर से शकील अंसारी की रिपोर्ट


About Author
Amit Sengar

Amit Sengar

मुझे अपने आप पर गर्व है कि में एक पत्रकार हूँ। क्योंकि पत्रकार होना अपने आप में कलाकार, चिंतक, लेखक या जन-हित में काम करने वाले वकील जैसा होता है। पत्रकार कोई कारोबारी, व्यापारी या राजनेता नहीं होता है वह व्यापक जनता की भलाई के सरोकारों से संचालित होता है। वहीं हेनरी ल्यूस ने कहा है कि “मैं जर्नलिस्ट बना ताकि दुनिया के दिल के अधिक करीब रहूं।”

Other Latest News