इंदौर में हुई दस्‍तक अभियान की शुरुआत, स्वास्थ्य विभाग की टीम घर-घर जाकर करेगी बच्चों का स्वास्थ्य परीक्षण

अभियान के अंतर्गत नवजातों और बच्चों की पहचान प्रबंधन और रेफरल जीरो से 5 साल तक के गंभीर कुपोषित बच्चों की सक्रिय पहचान, निमोनिया को पहचान के अलावा अन्य प्रकार की बीमारी जिसका जिक्र डॉक्टर तरुण ने किया वो भी किए जाएगें।

Amit Sengar
Published on -
indore news

Indore News : मध्य प्रदेश के साथ-साथ इंदौर जिले में भी 25 जून से दस्‍तक अभियान शुरू किया गया है। कार्यालय मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी दफ्तर में मुख्य टीकाकरण अधिकारी डॉक्टर तरुण गुप्ता ने दी।

क्या है पूरा मामला

बता दें कि जिले में शुरू किए गए दस्‍तक अभियान की जानकारी देते हुए मुख्य टीकाकरण अधिकारी डॉ तरुण गुप्ता ने बताया कि 27 अगस्त 2024 तक बाहर से आने वाले तथा दस्तक दल द्वारा खोजे जाने वाले और नए जन्म होने वाले बच्चों को चिन्हित कर दस्तक दल अपनी सेवाएं प्रदान करेगा बनाए गए दलों में आशा कार्यकर्ता आंगनवाड़ी तथा एएनएम कार्यकर्ता दस्तक दल के रूप में घर-घर जाकर बच्चों की स्क्रीनिंग करेंगे। ग्रामीण क्षेत्रों में 172 और शहरी क्षेत्र में 189 दस्तक दल सेहत की दस्तक घर-घर देंगे।

अभियान के अंतर्गत नवजातों और बच्चों की पहचान प्रबंधन और रेफरल जीरो से 5 साल तक के गंभीर कुपोषित बच्चों की सक्रिय पहचान, निमोनिया को पहचान के अलावा अन्य प्रकार की बीमारी जिसका जिक्र डॉक्टर तरुण ने किया वो भी किए जाएगें।
इंदौर से शकील अंसारी की रिपोर्ट


About Author
Amit Sengar

Amit Sengar

मुझे अपने आप पर गर्व है कि में एक पत्रकार हूँ। क्योंकि पत्रकार होना अपने आप में कलाकार, चिंतक, लेखक या जन-हित में काम करने वाले वकील जैसा होता है। पत्रकार कोई कारोबारी, व्यापारी या राजनेता नहीं होता है वह व्यापक जनता की भलाई के सरोकारों से संचालित होता है। वहीं हेनरी ल्यूस ने कहा है कि “मैं जर्नलिस्ट बना ताकि दुनिया के दिल के अधिक करीब रहूं।”

Other Latest News