भूमि अधिग्रहण के खिलाफ किसानों ने खोला मोर्चा, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष जीतू पटवारी को सौंपा ज्ञापन

जीतू पटवारी ने किसानों द्वारा की जा रही मांगों को लेकर कहा कि आगामी दिनों में राहुल गांधी अपनी न्याय यात्रा को लेकर उज्जैन पहुंचेंगे, जहां उनके समक्ष इस मुद्दे को रखा जाएगा और किसानों द्वारा की जा रही है इस मांग को संज्ञान में लेकर एक उचित स्तर तक इन मांगों को लेकर जाया जाएगा

Amit Sengar
Published on -
indore news

Indore News : विपक्ष में बैठी कांग्रेस अब सरकार में बैठे ज़िम्मेदारों को पूर्व में किए आमजन से वादे निभाने को पूरा करने में जुट गई है इसी के चलते कांग्रेस के पीसीसी चीफ जीतू पटवारी गुरुवार को इंदौर कार्यकर्ता सम्मेलन में शामिल होने के उद्देश्य से पहुंचे थे, जहां सम्मेलन में पहुंचने के पूर्व ही भूमि अधिग्रहण के खिलाफ नारा बुलंद करते हुए किसानों ने जीतू पटवारी के काफिले को रोका और अपनी मांगों के संबंध में एक ज्ञापन दिया, जिसमें जीतू पटवारी ने भी उनके बीच जाकर उनकी समस्याओं को सुना और उनकी मांगों को उच्च स्तर तक पहुंचाने की बात भी कही है।

क्या है पूरा मामला

दरअसल, इंदौर से बुधनी रेलवे मार्ग और आउटर रिंग रोड को लेकर इंदौर के कई ग्रामीण क्षेत्र के किसानों की भूमि को अधिग्रहित किया जा रहा है, जहां भूमि अधिग्रहण से नाराज किसानों ने अब शासन प्रशासन के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है, जहां पूर्व में कई स्तरों पर किसानों के द्वारा विरोध जाहिर किया जा चुका है, वहीं आज किसानों ने जीतू पटवारी के काफिले को बीच रास्ते में रोककर उन्हें अपनी मांगों के संबंध में ज्ञापन सौंपा, जीतू पटवारी ने किसानों द्वारा की जा रही मांगों को लेकर कहा कि आगामी दिनों में राहुल गांधी अपनी न्याय यात्रा को लेकर उज्जैन पहुंचेंगे, जहां उनके समक्ष इस मुद्दे को रखा जाएगा और किसानों द्वारा की जा रही है इस मांग को संज्ञान में लेकर एक उचित स्तर तक इन मांगों को लेकर जाया जाएगा और उनकी कोशिश है कि दोगुना और चार गुना मुआवजा दिए जाने का जो नियम था, उसके अनुसार किसानों को राशि मिलनी चाहिए।

मीडिया से बात करते हुए जीतू पटवारी ने सरकार को जमकर आड़े हाथों लिया और यह भी कहा कि यदि सरकार समय रहते किए गए वादों पर खरी ना उतरी तो हम विपक्ष की भूमिका बहुत अच्छे से निभाएंगे।

इंदौर से शकील अंसारी की रिपोर्ट


About Author
Amit Sengar

Amit Sengar

मुझे अपने आप पर गर्व है कि में एक पत्रकार हूँ। क्योंकि पत्रकार होना अपने आप में कलाकार, चिंतक, लेखक या जन-हित में काम करने वाले वकील जैसा होता है। पत्रकार कोई कारोबारी, व्यापारी या राजनेता नहीं होता है वह व्यापक जनता की भलाई के सरोकारों से संचालित होता है। वहीं हेनरी ल्यूस ने कहा है कि “मैं जर्नलिस्ट बना ताकि दुनिया के दिल के अधिक करीब रहूं।”

Other Latest News