Indore News : बीजेपी नेता अक्षय बम के कॉलेज पर लगा 5 लाख रुपए का जुर्माना, यह है वजह, पढ़ें

पर्चा लीक मामले में उच्च शिक्षा आयुक्त और कुलपति दोनों ने इस तरह की गलती करने वालों को बख्शा नहीं जाएगा और उनके खिलाफ कड़ी कार्यवाही की जाएगी यह बात कही है मीडिया से बात करते हुए आयुक्त ने यह भी कहा कि ऐसे मामले दोबारा ना हो इसको लेकर भी ठोस कदम उठाये जाएंगे।

Amit Sengar
Published on -
davv

Indore News : देवी अहिल्या विश्वविद्यालय में बुधवार को कार्यपरिषद की बैठक का आयोजन किया गया। इस कार्य परिषद की बैठक में उच्च शिक्षा विभाग आयुक्त निशांत वरवड़े व देवी अहिल्या विश्वविद्यालय की कुलपति प्रोफेसर रेनू जैन, डीएवी के रजिस्टार अजय वर्मा और कार्यपरिषद के सदस्य बैठक में मौजूद रहे। जिसमें 25 बिंदुओं पर कार्य परिषद की बैठक में चर्चा की गई।

डीएवीवी में हुई कार्य परिषद की बैठक

डीएवीवी में बुधवार कार्य परिषद की बैठक का आयोजन की गई बैठक में उच्च शिक्षा विभाग के आयुक्त निशांत वरवड़े बैठक में शामिल हुए 25 बिंदुओं पर कोई बैठक में चर्चा की गई। जिसमें विश्वविद्यालय से संबंधित मुद्दे शामिल थे। बैठक के बाद आयुक्त ने मीडिया से बात करते हुए बैठक में मुद्दों का होना बताते हुए बीते दिनों पर्चा लीक मामले को लेकर पत्रकारों कहा कि बैठक के दौरान डीएवीवी द्वारा बनाई गई कमेटी ने अपनी जांच सौंप दी है। और बैठक में निर्णय लिया गया है, कि परछाई कांड में आइडियलिक कॉलेज की संलिप्त सामने आई है। जिसके चलते कॉलेज पर आर्थिक दंड लगाया गया है। यानी 5 लाख रुपये का जुर्माना कॉलेज पर किया गया है। पूरे घटनाक्रम को लेकर आपको बता दें कि छात्र संगठनों द्वारा कॉलेज की मान्यता रद्द करने की मांग भी की गई थी। इस बिंदु को लेकर जब आयुक्त से संबद्धता समाप्त करने का सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि एक कमेटी बनाई जा रही है जो कि कॉलेज का निरीक्षण करेगी और यदि निरीक्षण के दौरान संबद्धता संबंधित नियमों का उल्लंघन पाया गया तो कमेटी की रिपोर्ट के बाद फैसला लिया जाएगा। देवी अहिल्या विश्वविद्यालय द्वारा नए कंप्यूटर की खरीदी की कवायद भी की जा रही है। इस बात को लेकर आयुक्त ने मीडिया से कहा संसाधनों का बढ़ना तरक्की का एक जरिया होता है। देवी अहिल्या विश्वविद्यालय में कार्यरत कर्मचारियों के मामले को लेकर जो लंबित मांगे हैं। और मांगो का लिखित दस्तावेज आयुक्त लेकर गए है। और सम्बंधित विभाग ओर व्यक्ति से मिलकर इस मामले को जल्द हल करेंगे ये बात कुलपति ने मीडिया से कही आने वाले समय में नेक का दौरा डीएवी में होना है उसे लेकर आयुक्त ने कहा कि ए प्लस प्लस तो लाना चाहते ही है साथ ही हम देवी अहिल्या विश्वविद्यालय को एनआरआईएफ के टॉप 100 रैंकिंग में लेकर आए।

MBA पेपर लीक मामले में फैसला

आयोजित की गई कार्य परिषद की बैठक को लेकर कुलपति प्रोफेसर रेनू जैन ने भी मीडिया से बात करते हुए कहा कि विश्वविद्यालय के लिए फक्र की बात है कि आज बैठक में खुद उच्च शिक्षा आयुक्त पहुंचे और बैठक के दौरान विश्वविद्यालय की तरक्की के लिए कई बेहतर सुझाव भी आयुक्त ने दिए है। बैठक में मुद्दों को लेकर कुलपति ने कहा कि शोध बिल्डिंग सेफ्टी स्थापना अकादमिक और अन्य मुद्दे कार्य परिषद की बैठक में रहे। पर्चा लीक मामले में दोषी पाए जाने वाले कॉलेज आइडियल को लेकर 5 लाख रुपए का फाइन उसे कॉलेज पर लगाने की बात कहते हुए कॉलेज की मान्यता रद्द करने के मामले में एक कमेटी बनाई जाने और उसके निरीक्षण के बाद फैसला लेने की बात कुलपति ने कही है। पर्चा लीक हो जाने के बाद डीएवीवी की बनाई गई कमेटी ने कुल 33 कॉलेजों से 14 बिंदु पर जानकारी मांगी थी किसने कैसे जनाकारी दी ये बताया और 33 में से 25 कॉलेजों ने जवाब दिया है। लेकिन कुछ कॉलेज ने फिलहाल अभिलेख नही दिया है। कुलपति ने संधवी कॉलेज का नाम बताते हुए कहा कि जांच कमेटी को उन्होंने बताया कि वहाँ से जो लिफाफे आए उसमें कट लगा हुआ था। साथ ही तीन ओर कॉलेज ऐसे है जिन्होंने अभी कुछ नही बताया तो वो कॉलेज भी संदेह के दायरे में आते है। कुल मिलाकर पर्चा लीक मामले में उच्च शिक्षा आयुक्त और कुलपति दोनों ने इस तरह की गलती करने वालों को बख्शा नहीं जाएगा और उनके खिलाफ कड़ी कार्यवाही की जाएगी यह बात कही है मीडिया से बात करते हुए आयुक्त ने यह भी कहा कि ऐसे मामले दोबारा ना हो इसको लेकर भी ठोस कदम उठाये जाएंगे।

पर्चा लीक मामले में कुलपति ने कहा कि जो कॉलेज इसमें दोषी पाया गया है। जिस पर 5 लाख का फाइन किया है। उसे आगामी 3 सालों तक परीक्षा केंद्र नहीं बनाया जाएगा।

इंदौर से शकील अंसारी की रिपोर्ट


About Author
Amit Sengar

Amit Sengar

मुझे अपने आप पर गर्व है कि में एक पत्रकार हूँ। क्योंकि पत्रकार होना अपने आप में कलाकार, चिंतक, लेखक या जन-हित में काम करने वाले वकील जैसा होता है। पत्रकार कोई कारोबारी, व्यापारी या राजनेता नहीं होता है वह व्यापक जनता की भलाई के सरोकारों से संचालित होता है। वहीं हेनरी ल्यूस ने कहा है कि “मैं जर्नलिस्ट बना ताकि दुनिया के दिल के अधिक करीब रहूं।”

Other Latest News