Indore News : विदेश में नौकरी के नाम पर लाखों रुपये की ठगी, दफ्तर बंद कर भागे आरोपी, मामला दर्ज

क्राइम ब्रांच इंदौर ने धोखाधड़ी के मामले में मुकदमा दर्ज करते हुए आरोपियों की तलाश शुरू की है।

Amit Sengar
Published on -
indore crime branch

Indore News : इंदौर क्राइम ब्रांच में लसूड़िया निवासी फरियादिया ने धोखाधड़ी करने का मुकदमा दर्ज कराया है। फरियादी ने पुलिस को बताया कि नौकरी दिलाने के नाम पर 12 लाख की ठगी उसके साथ की गई है। धोखाधड़ी करने के मामले में दो आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करते हुए तलाश शुरू कर दी है।

क्या है पूरा मामला

क्राइम ब्रांच के एडिशनल डीसीपी राजेश दंडोतिया ने क्राइम ब्रांच में लाखों रुपए की धोखाधड़ी करने के मामले में एक मुकदमा दर्ज होने की बात कहीं और फरियादी को लेकर कहा कि उसने क्राइम ब्रांच में उपस्थित होकर बताया कि उसे फेसबुक पेज के जरिए एड देखने के बाद चंडीगढ़ बेस कंपनी के एड देने वालों से बात की धोखाधड़ी करने वालों ने पीड़िता से कहा कि आप कुछ लोगों को और अपने साथ जोड़ना है। जिन्हें हम विदेश में नौकरी दिलवाएंगे। लेकिन दस्तावेजों की जानकारी देते हुए राजेश दंडोतिया ने बताया कि वेरीफिकेशन पासपोर्ट रजिस्ट्रेशन और अन्य दस्तावेजों के नाम पर तकरीबन 12 लाख रुपए की धोखाधड़ी की गई। मामले में और अधिक जानकारी देते हुए एडिशनल डीसीपी ने कहा कि 10 से 15 ऐसे फरियादी हैं जिनके साथ कुल मिलाकर सिमरन और अरुण और जो की चंडीगढ़ निवासी हैं, उन्होंने धोखाधड़ी की है।

इंदौर क्राइम ब्रांच एडिशनल डीसीपी राजेश दंडोतिया ने बताया कि धोखाधड़ी के मामले को लेकर 2019 में पीड़िता सिमरन ऐड देखने के बाद आरोपियों द्वारा बताए गए काम को शुरू किया था। फिलहाल क्राइम ब्रांच इंदौर ने धोखाधड़ी के मामले में मुकदमा दर्ज करते हुए आरोपियों की तलाश शुरू की है। आपको यह भी बता दें कि सिमरन चंडीगढ़ जाकर एक बार आरोपियों के ऑफिस पर भी मिली है। फिर कुछ दिनों के बाद फेसबुक से पेज भी गायब हो गया और दफ्तर भी खाली कर कर भाग गए।

इंदौर से शकील अंसारी की रिपोर्ट


About Author
Amit Sengar

Amit Sengar

मुझे अपने आप पर गर्व है कि में एक पत्रकार हूँ। क्योंकि पत्रकार होना अपने आप में कलाकार, चिंतक, लेखक या जन-हित में काम करने वाले वकील जैसा होता है। पत्रकार कोई कारोबारी, व्यापारी या राजनेता नहीं होता है वह व्यापक जनता की भलाई के सरोकारों से संचालित होता है। वहीं हेनरी ल्यूस ने कहा है कि “मैं जर्नलिस्ट बना ताकि दुनिया के दिल के अधिक करीब रहूं।”

Other Latest News