Indore News : मंदिर के बाहर मिले मांस के टुकड़े, डीसीपी ने कहा – कुत्ता कहीं और से लाकर छोड़ गया

वीडियो की पड़ताल की गई। वह वीडियो भी काफी पुराना है गैर जिम्मेदार लोगों के द्वारा फर्जी वीडियो चलाया गया है, जिसके विरुद्ध सख्त से सख्त कार्रवाई की जायेगी।

Amit Sengar
Published on -
indore police

Indore News : मध्य प्रदेश के इंदौर शहर के आजाद नगर थाना क्षेत्र में शिव मंदिर के बाहर मीट के टुकड़े फेंकने का मामला सामने आया है, सूचना मिलने पर पुलिस बल और वरिष्ठ अधिकारी मौके पर पहुंचे थे। वहीं डीसीपी विनोद कुमार मीना ने भ्रामक जानकारी फैलाने वालों के खिलाफ कार्रवाई करने की बात कही है।

क्या है पूरा मामला

दरअसल, यह पूरा मामला आज सुबह स्कीम नंबर 94 के फिरदोस नगर का है। यहाँ बने शिव मंदिर पर मवेशी के टुकड़े फेंकने का मामला सामने आया था। जिससे क्षेत्र में सनसनी फ़ैल गई थी। मौके पर पुलिस बल के साथ थाना प्रभारी और एसीपी पहुंचे थे, क्षेत्र में आवाजाही बंद कर मंदिर के आसपास लगे सीसीटीवी चेक कर आसपास के लोगों से पूछताछ की गई थी। वही इस पूरे मामले में श्वान के द्वारा कही और से मवेशी के टुकड़े लेकर आया था। जिसका सीसीटीवी सामने आया है।

वही पूरे मामले डीसीपी विनोद कुमार मीना का कहना है कि आज सुबह-सुबह एक खबर चली थी। जिसमे आजाद नगर क्षेत्र में मंदिर के बाहर मास के टुकड़े पड़े हुए है, मामले को गंभीरता से देखकर थाना प्रभारी और एसीपी पुलिस बल के साथ पहुंचे थे। जहाँ पहले इस प्रकार से विवाद हो चुका है, सीसीटीवी में देखने में आया की एक श्वान के द्वारा मांस का टुकड़ा मंदिर के पास लाया गया है। पूरे मामले में जांच में पाया की किसी व्यक्ति विशेष के द्वारा यह मांस नही लाया गया है। सोशल मीडिया पर जो घटना की जानकारी वायरल की जा रही है। उसका खंडन पुलिस द्वारा किया जा रहा है। एक वीडियो भी वायरल किया गया था जिसमें दो व्यक्ति देखे जाते है, वीडियो की पड़ताल की गई। वह वीडियो भी काफी पुराना है गैर जिम्मेदार लोगों के द्वारा फर्जी वीडियो चलाया गया है, जिसके विरुद्ध सख्त से सख्त कार्रवाई की जायेगी।

इंदौर से शकील अंसारी की रिपोर्ट


About Author
Amit Sengar

Amit Sengar

मुझे अपने आप पर गर्व है कि में एक पत्रकार हूँ। क्योंकि पत्रकार होना अपने आप में कलाकार, चिंतक, लेखक या जन-हित में काम करने वाले वकील जैसा होता है। पत्रकार कोई कारोबारी, व्यापारी या राजनेता नहीं होता है वह व्यापक जनता की भलाई के सरोकारों से संचालित होता है। वहीं हेनरी ल्यूस ने कहा है कि “मैं जर्नलिस्ट बना ताकि दुनिया के दिल के अधिक करीब रहूं।”

Other Latest News