Indore News : दुष्कर्म का मामला दर्ज करवाना महिला को पड़ा महंगा, जानें कैसे

पलासिया थाने पर दो मुकदमे दर्ज हैं। दोनों ही मामले में विवेचना की जा रही है गौरतलाब है कि अड़ीबाजी के दर्ज हुए मुकदमे में पुलिस ने गिरोह के सात सदस्यों को गिरफ्तार कर लिया है और सपना पर इनाम घोषित कर दिया है।

Amit Sengar
Published on -
indore news

Indore News : पलासिया थाना इंदौर में एक पीड़िता द्वारा दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज कराया गया था। दर्ज हुए मुकदमे के बाद उसके परिजनों ने कुछ सबूत पेश किए। जिससे यह साबित हुआ कि जिस महिला ने मुकदमा दर्ज कराया है। वह एक गिरोह के रूप में चलाती है और लोगों को फंसाकर उनसे पैसे ऐंठने का काम करती है। फरियादी सेजल मित्तल द्वारा महिला पर अड़ीबाजी कर रुपए मांगने का प्रकरण दर्ज पलासिया थाने में कराया। जिस पर सात आरोपियों की गिरफ्तारी की जा चुकी है। घटना में शामिल सपना साहू जो कि अभी फरार है। उस पर ₹3000 का इनाम पुलिस द्वारा घोषित किया गया है।

क्या है पूरा मामला

एडिशनल डीसीपी रामसनेही मिश्रा के अनुसार पलासिया थाने पर 376 का एक मुकदमा दर्ज एक महिला द्वारा कराया गया था। मुकदमा दर्ज होने के बाद मामले में एक नया मोड़ आया और मुकदमा दर्ज कराने वाली महिला के ही खिलाफ कुछ ऐसे सबूत पुलिस के समक्ष पेश किए गए। जिससे वह महिला अड़ीबाजी करते हुए लोगों से पैसे इतने वाली निकली दर्ज में मुकदमे के बाद सात लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया। जो कि सपना के साथी हैं सपना को गिरफ्तार करने के लिए हर संभव प्रयास पुलिस कर रही है और उस पर ₹3000 का इनाम भी घोषित किया है।

मामले की ओर अधिक जानकारी देते हुए डीसीपी रामसनेही मिश्रा ने बताया कि लालबाग की रहने वाली लेडी डॉन के नाम से पहचाने जाने वाली सपना को पकड़ने के लिए टीम में बना दी गई है। साथ ही उस पर इनाम भी घोषित कर दिया गया। एडिशनल डीसीपी का यह भी कहना है कि आरोपी महिला इससे पहले भी कई लोगों से शादी कर उनसे नकद लेकर चंपत हो चुकी है। कुल मिलाकर पलासिया थाने पर दो मुकदमे दर्ज हैं। दोनों ही मामले में विवेचना की जा रही है गौरतलाब है कि अड़ीबाजी के दर्ज हुए मुकदमे में पुलिस ने गिरोह के सात सदस्यों को गिरफ्तार कर लिया है और सपना पर इनाम घोषित कर दिया है।

इंदौर से शकील अंसारी की रिपोर्ट


About Author
Amit Sengar

Amit Sengar

मुझे अपने आप पर गर्व है कि में एक पत्रकार हूँ। क्योंकि पत्रकार होना अपने आप में कलाकार, चिंतक, लेखक या जन-हित में काम करने वाले वकील जैसा होता है। पत्रकार कोई कारोबारी, व्यापारी या राजनेता नहीं होता है वह व्यापक जनता की भलाई के सरोकारों से संचालित होता है। वहीं हेनरी ल्यूस ने कहा है कि “मैं जर्नलिस्ट बना ताकि दुनिया के दिल के अधिक करीब रहूं।”

Other Latest News