जबलपुर में बैंक मैनेजर को दुकान संचालक ने बंधक बनाकर पीटा, दी जान से मारने की धमकी

Sanjucta Pandit
Published on -
jabalpur

Jabalpur News : जबलपुर में बीती रात को सेन्ट्रल बैंक ऑफ इंडिया के मैनेजर और शाखा प्रबंधक को दुकान संचालक द्वारा बंधक बनाकर पीटने का मामला सामने आया है। साथ ही जातिसूचक शब्द कहते हुए जान से मारने की धमकी भी दी। बता दें कि दोनों किश्त बाउंस होने पर दुकान संचालक के पास पहुंचे थे। ओमती थाना पुलिस ने रसल चौंक स्थित दुकान संचालक के ​खिलाफ बंधक बनाने, अभद्रता करने, धमकी देने और शासकीय कार्य में बाधा पहुंचाने सहित अनुसू​चित जाति अ​धिनियम की धाराओं के तहत प्रकरण दर्ज किया है। घटना के बाद से दुकान संचालक फरार है, जिसे कि पुलिस तलाश कर रही है।

जानें पूरा मामला

जानकारी के मुताबिक, रसल चौक के पास हुनर ग्राफिक्स है। जिसका संचालक कवलजीत सिंह चटबाल है। चटबाल ने सेन्ट्रल बैंक ऑफ इंडिया की गढ़ा शाखा से होम लोन लिया था। जिसकी ​किश्त लंबे समय से जमा नहीं की जा रही थी। जिस पर कि गढ़ा ब्रांच के मैनेजर विवेक नामदेव रसल चौक स्थित कवरजीत की दुकान हुनर ग्राफिक्स पहुंचे, जहां कवलजीत से किश्तों का भुगतान करने की बात कही। ब्रांच मैनेजर विवेक नामदेव ने सेन्ट्रल बैंक ऑफ इंडिया क्षेत्रीय कार्यालय ग्वारीघाट रोड में पदस्थ मुख्य प्रबंधक अनिल कुमार नायक को फोन लगाया। विवेक ने अनिल नायक को बताया कि वे कवलजीत सिंह की दुकान आकर बातचीत करें।

आरोपी की तलाश शुरू

इसके बाद, अनिल कुमार अपने कर्मचारी के साथ रसल चौक स्थित दुकान पहुंचे। मुख्य प्रबंधक अनिल कुमार नायक के आने के बाद ब्रांच मैनेजर विवेक नामदेव दोनों कवलजीत सिंह से बात करने दुकान के भीतर घुसे ही थे कि दुकान संचालक ने शटर गिराया और दोनों अ​धिकारियाें को बंधक बना लिया। इसकी सूचना मिलने के बाद ओमती थाना पुलिस मौके पर पहुंची और बैंक मैनेजर की शिकायत पर दुकान संचालक के खिलाफ मामला दर्ज कर उसकी तलाश शुरू कर दी है।

जबलपुर से संदीप कुमार की रिपोर्ट


About Author
Sanjucta Pandit

Sanjucta Pandit

मैं संयुक्ता पंडित वर्ष 2022 से MP Breaking में बतौर सीनियर कंटेंट राइटर काम कर रही हूँ। डिप्लोमा इन मास कम्युनिकेशन और बीए की पढ़ाई करने के बाद से ही मुझे पत्रकार बनना था। जिसके लिए मैं लगातार मध्य प्रदेश की ऑनलाइन वेब साइट्स लाइव इंडिया, VIP News Channel, Khabar Bharat में काम किया है। पत्रकारिता लोकतंत्र का अघोषित चौथा स्तंभ माना जाता है। जिसका मुख्य काम है लोगों की बात को सरकार तक पहुंचाना। इसलिए मैं पिछले 5 सालों से इस क्षेत्र में कार्य कर रही हुं।

Other Latest News