जबलपुर: आपदा में अवसर बना रेमडेसिवीर इंजेक्शन, धड़ल्ले से चल रही कालाबजारी

मेडिकल स्टोर वाले दुकानदार भी मनमानी कीमत पर इस इंजेक्शन को बेच रहे हैं। मरीज के परिजनों के द्वारा जिला प्रशासन (administration) से इस संबंध में लगातार शिकायत की जा रही है।

जबलपुर

जबलपुर, संदीप कुमार। जबलपुर (jabalpur)  में कोरोना संक्रमित मरीजों (corona infected patient) के लिए जरूरी रेमडेसिवीर (remdesivir) इंजेक्शन की कालाबाजारी (blackmarketing) जबरदस्त तरीके से चल रही है। जहां एक तरफ निजी अस्पताल (private hospitals) मनमानी कीमत पर मरीजों को यह इंजेक्शन लगा रहे हैं, तो वहीं मेडिकल स्टोर वाले दुकानदार भी मनमानी कीमत पर इस इंजेक्शन को बेच रहे हैं। मरीज के परिजनों के द्वारा जिला प्रशासन (administration) से इस संबंध में लगातार शिकायत की जा रही है।

यह भी पढे़ं… जबलपुर में नर्स को दादागिरी पड़ी भारी, शुरू हुई अनुशासनात्मक कार्यवाही, ड्यूटी से हटाया

खबर है कि रेमडेसिवीर की कालाबजारी की शिकायत मिलने के बाद एसडीएम आशीष पांडेय और ओमती थाना पुलिस ने दवा दुकान न्यू मुनीष मेडिको में छापा मारा।  जिला प्रशासन और पुलिस को यह सूचना मिली थी कि इस दवा दुकान से 17 से 18 हजार रुपए में रेमडेसिवीर इंजेक्शन बेचा जा रहा है। जबकी इसकी वास्तविक कीमत पांच हजार चार सौ रुपए है। शिकायतकर्ता ने इस संबंध में एक वीडियो भी बनाया है।  इस शिकायत के बाद जिला प्रशासन और पुलिस के दल ने न्यू मुनीष मेडिको में छापा मारा और महंगे दामों में इंजेक्शन बेचने वाले दुकान के दो कर्मचारी नितिन विश्वकर्मा और सुदामा बघेल को अपनी हिरासत में लिया है।और उनसे पूछताछ की जा रही है।

यह भी पढ़ें… आईएएस ने बताए उपाय, कोरोना से कैसे कर सकते हैं बचाव

जिला प्रशासन ने कार्यवाही करते हुए न्यू मुनीष मेडिको को सील कर दिया है। इस कार्यवाही के दौरान दवा दुकान के संचालक और उसके साथियों ने जमकर हंगामा भी मचाया और इस कार्यवाही का विरोध किया लेकिन जिला प्रशासन और पुलिस के अधिकारियों ने अपनी कार्यवाही जारी रखी। फिलहाल दवा दुकान के संचालक गौरव शर्मा और उसके दो कर्मचारियों से इस संबंध में पूछताछ की जा रही है। इसके बाद शासकीय अमले ने कृष्णा मेडिकल स्टोर्स मे भी रिकाॅर्ड की जांच की और स्टाॅक चेक किया लेकिन दुकान में रेमडीसिवीर इंजेक्शन नहीं मिला।