Jabalpur News: तीन छात्रों ने किया स्कूली छात्र पर जानलेवा हमला, पुलिस ने शुरू की जांच, जानें पूरा मामला

Jabalpur News: स्कूली बच्चों की आपसी रंजिश कभी-कभी इस हद तक पहुंच जाती है, जिसके बाद पुलिस को भी दखलअंदाजी करनी पड़ती है। ऐसा ही मामला थाना सिविल लाइन में देखा गया है। जब एक निजी स्कूल में पढ़ने वाले छात्र को उसके ही स्कूल के कुछ छात्रों ने उस समय मारपीट कर दी। जब वह अपने दादा के साथ वापस घर जा रहा था। इतना ही नहीं इन छात्रों ने बुजुर्ग दादा से भी जमकर गाली-गलौज की और छात्र को लात घूंसों से बुरी तरह पीटा। रिपोर्ट के मुताबिक बचाव के बीच में दादा के आने पर उनपर भी हमला किया गया।

पीड़ित छात्र ने मामले की शिकायत सिविल लाइन थाने में जाकर की है। पुलिस ने मामला दर्ज करते हुए जांच शुरू कर दी है। पूरे मामले की जानकारी देते हुए सिविल लाइन पुलिस का कहना है कि सिविल लाइन थाना क्षेत्र निवासी कृष्णा मूंगले ने शिकायत दर्ज कराई थी। उन्होंने बताया कि वह जब एम्पायर टाॅकीज मार्ग से अपने दादा साथ घर जा रहा था। तभी उसके स्कूल में पढ़ने वाले कुछ छात्रों द्वारा उसके साथ मारपीट करते हुए दादा के साथ भी गाली गलौज की है। पुलिस के अनुसार छात्रों द्वारा यह मारपीट पुरानी रंजिश के चलते की गई है। पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।
जबलपुर से संदीप कुमार की रिपोर्ट।

 


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News