सीएम शिवराज ने दाखिल किया नामांकन फॉर्म, बोले- दिग्विजय और कमलनाथ ने कब्ज़ा कर कांग्रेस को निष्प्राण कर दिया

CM Shivraj Singh Chauhan filled nomination form, MP election 2023

MP Election 2023 : मप्र विधानसभा चुनाव 2023 के लिए नामांकन फॉर्म दाखिल करने का आज अंतिम दिन था, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अपने विधानसभा क्षेत्र बुदनी पहुंचकर नामांकन फॉर्म दाखिल किया, इससे पहले उन्होंने नर्मदा मैया, कुल देवता और सलकनपुर वाली विजयासन मैया की पूजा-अर्चना की, सीएम शिवराज ने रोड शो किया और एक आमसभा को संबोधित भी किया।

रोड शो में क्षेत्र की जनता ने की शिवराज पर पुष्प वर्षा 

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान आज सीहोर जिले में अपनी विधानसभा बुदनी में नामांकन फॉर्म भरने आज पत्नी साधना सिंह और पुत्र कार्तिकेय के साथ पहुंचे, क्षेत्र की जनता ने उनपर पुष्प वर्षा की, भांजे भांजियों ने मामा मामा के जयघोष किये तो वहीँ बहनों ने भैया भैया की आवाज लगाई, जब भीड़ से आवाज आई की मामा आई लव यू तो शिवराज ने ई लव यू टू कहकर जवाब दिया , उन्होंने कहा कि यही प्यार मुझमें उर्जा का संचार करता है और मेरा निश्चय भांजे भांजियों और बहनों के लिए और अधिक काम करने का करता है।

जमा किया नामांकन, कांग्रेस पर कसा तंज 

सीएम शिवराज बुदनी में रिटर्निग ऑफिसर के कार्यालय पहुंचे और अपना नामांकन फॉर्म दाखिल किया, फॉर्म भरने के बाद उन्होंने मीडिया से बात करते हुए कांग्रेस पर तंज कसा , सीएम ने कहा कि कांग्रेस की हालत ऐसी है कि एक दिल के टुकड़े हजार हुए कोई यहाँ गिरा कोई वहां गिरा, कांग्रेस तो गुटों में बंटी हुई हैं, एक दिग्गी गुट, एक सेठ कमलनाथ गुट, एक निर्गुट, जबकि भाजपा एकजुट है।

दिग्विजय – कमलनाथ पर लगाये पार्टी कब्जाने के आरोप 

एक सवाल के जवाब में मुख्यमंत्री ने कहा कि केंद्र में मल्लिकार्जुन खड्गे नाम के अध्यक्ष हैं , असली फसल भैया बहन(राहुल प्रियंका) काटते हैं, यहाँ भी कमलनाथ और दिग्विजय ने पूरी पार्टी पर कब्ज़ा जमा रखा है , कांग्रेसियों की आगे की सम्भावना भी समाप्त कर दी वो तो टिकट भी बाँट देते है , इन दोनों ने कांग्रेस पर कब्ज़ा कर कांग्रेस को निष्प्राण बना दिया है।

https://twitter.com/ChouhanShivraj/status/1718892137356333396


About Author
Atul Saxena

Atul Saxena

पत्रकारिता मेरे लिए एक मिशन है, हालाँकि आज की पत्रकारिता ना ब्रह्माण्ड के पहले पत्रकार देवर्षि नारद वाली है और ना ही गणेश शंकर विद्यार्थी वाली, फिर भी मेरा ऐसा मानना है कि यदि खबर को सिर्फ खबर ही रहने दिया जाये तो ये ही सही अर्थों में पत्रकारिता है और मैं इसी मिशन पर पिछले तीन दशकों से ज्यादा समय से लगा हुआ हूँ.... पत्रकारिता के इस भौतिकवादी युग में मेरे जीवन में कई उतार चढ़ाव आये, बहुत सी चुनौतियों का सामना करना पड़ा लेकिन इसके बाद भी ना मैं डरा और ना ही अपने रास्ते से हटा ....पत्रकारिता मेरे जीवन का वो हिस्सा है जिसमें सच्ची और सही ख़बरें मेरी पहचान हैं ....

Other Latest News