भोपाल, डेस्क रिपोर्ट।  केंद्र की मोदी सरकार के “ऑक्सीजन से एक भी मौत नहीं” बयान पर कवि कुमार विश्वास ने बहुत ही भावुक ट्वीट किये है। उन्होंने कई ट्वीट किये जिसके शब्दों में कोरोना से मरने वाले लोगों के परिजनों की तकलीफ साफ समझी जा सकती है। कुमार विश्वास ने लिखा – नागरिकों की बेचैनी का मर जाना लोकतंत्र का शोकपर्व है।

दर असल मोदी सरकार के बयान ने देश में तूफ़ान ला दिया है, कोरोना की दूसरी लहर में जिस तरह ऑक्सीजन की  त्राहि त्राहि हुई, ऑक्सीजन सिलेंडर के लिए लोग दिन रात लाइन में लगे रहे।  संतरी से लेकर मंत्री तक सड़क पर थे, कोई भीड़ को हटा रहा था तो कोई श्मशान में चिता के अंतिम संस्कार की व्यवस्था कर रहा था। सरकारों के आदेश पर रातोरात ऑक्सीजन प्लांट लग गए, एक राज्य से दूसरे राज्यों को टैंकर भेजे गए, इस बीच लाखों लोग भगवान को प्यारे हो गए लेकन सरकार ने दावा कर दिया कि एक भी मौत ऑक्सीजन की कमी से नहीं हुई।

ये भी पढ़ें – Video: वैक्सीनेशन सेंटर पर मारपीट! पहले वैक्सीन लगवाने की रेस में उमड़ी हज़ारों लोगों की भीड़, Video Viral

मोदी सरकार के इस बयान के बाद देश के लोगों में गुस्सा है राजनेता से लेकर देश का हर संवेदनशील नागरिक प्रतिक्रिया व्यक्त कर रहा है। ऐसे में कवि कुमार विश्वास भी सामने आये उन्होंने ट्वीट कर अपनी पीड़ा व्यक्त की और शब्दों में गुस्सा जाहिर किया।

ये भी पढ़ें – 23 जुलाई से मध्यप्रदेश में शुरू होगा गर्भवती महिलाओं का वैक्सीनेशन, यहां लगवा सकती हैं टीका

कुमार विश्वास ने ट्वीट किया – मुझे सरकारों-नेताओं की बेशर्मी का दुख नहीं है।उस संवेदनहीनता का तो दीर्घकालिक निजी अनुभव है।मुझे कष्ट उन हज़ारों फ़ोन करने वालों की ख़ामोशी का है जो उन कठिन दिनों में सिलेंडर/कन्सन्ट्रेटर की एक मिनट की देरी पर दस कॉल करते थे।नागरिकों की बेचैनी का मर जाना लोकतंत्र का शोकपर्व है।

ये भी पढ़ें – Jabalpur News : व्यापारी के सूने घर को निशाना बनाकर लाखों के जेवर चोरी

कुमार विश्वास ने एक यूजर  ट्वीट का जवाब देते हुए लिखा -हाँ खड़े तो थे ही, खड़े भी रहेंगे ही।न मैदान छोड़ेंगे न पीठ दिखाएँगे।इस निर्लज्ज समय में ‘मनुष्य’ बने रहने के लिए इतने ज़ख़्म तो खाने ही होंगे।

अपने ही ट्वीट को रीट्वीट कर कुमार विश्वास ने चौपाई लिखी -“अब अनि कोउ माखै भट मानी, वीर विहीन मही मैं जानी”