Aadhaar Card Alert: आगे बढ़ सकती है आधार-पैन लिंकिंग की लास्ट डेट, कॉंग्रेस सांसद ने लिखा पीएम मोदी को पत्र

Aadhaar Card Alert: आज के दौर में आधार कार्ड और पैन कार्ड दोनों ही महत्वपूर्ण दस्तावेजों बन चुके हैं। शैक्षणिक कार्य से लेकर आधिकारिक कार्यों तक इनकी मांग की जाती है। दोनों को लिंक कराने की अंतिम तिथि 31 मार्च तक है। उन लोगों का पैन कार्ड डीएक्टिव हो जाएगा, जो आधार-पैन लिंकिंग नहीं करवाएंगे। बाद में एक्टिव करवाने के लिए 1000 रुपये जुर्माना भरने का प्रवधान है। लेकिन नागरिकों को राहत मिल सकती है। दोनों ही दस्तावेजों को लिंक कराने की अंतिम तिथि आगे बढ़ सकती है। इस संबंध में कॉंग्रेस सांसद अधीर रंजन चौंधरी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा है।

पत्र में कॉंग्रेस सांसद ने पीएम मोदी ने आधार कार्ड और पैन कार्ड को लिंक कराने की समय सीमा को अगले 6 महीने तक बढ़ाने का अनुरोध किया है। साथ ही इस प्रक्रिया को फ्री करने की मांग भी की है। उन्होनें इंटरनेट का हवाला देते हुए कहा कि, “देश के दूरस्थ क्षेत्रों में बड़ी संख्या में भारतीय नागरिक रहते हैं। जहां इंटनेट की सुविधाएं भी मुश्किल के उपलब्ध होती है। जिसके बाद दलाल इन मासूम ग्रामीणों ने फीस के नाम पर ठगना शुरू कर देते हैं। जो बेहद दुखद है।”

अधीर रंजन ने पत्र में आगे लिखा, “इस संबंध में मैं आपसे अनुरोध करता हूँ की आप वित्त मंत्रालय और राजस्व विभाग को सभी लोकल और सब पोस्ट ऑफिस को इस प्रक्रिया में लोगों की मदद करने के लिए सशक्त बनाने के निर्देश दें। ताकि लोग आसानी से और बिना किसी फीस के आधार-पैन लिंकिंग की प्रक्रिया पूरी कर पाएं। साथ ही लिंकिंग की डेट को 6 महीने आगे बढ़ा दें।”

Aadhaar Card Alert: आगे बढ़ सकती है आधार-पैन लिंकिंग की लास्ट डेट, कॉंग्रेस सांसद ने लिखा पीएम मोदी को पत्र

 

 


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News