साउथ और नॉर्थ की बात कर हिंदी हार्टलैंड वोटर्स के लिए की जा रही निम्न स्तरीय टिप्पणियों पर बोले पीएम मोदी, “उनके विभाजनकारी एजेंडे से सावधान रहें”

pm narendra modi

PM Narendra Modi Statement: मध्यप्रदेश, छतीसगढ़ और राजस्थान में भारतीय जनता पार्टी अपनी सरकार बना चुकी है। तीन राज्यों में विधानसभा चुनाव जीतकर बीजेपी ने उत्तर भारत में अपनी पकड़ मजबूत कर ली है। वहीं तेलंगाना और मिजोरम में भाजपा को हार का सामना करना पड़ा। बीजेपी की जीत को लेकर सोशल मीडिया पर एक तरफ जहां कुछ लोग भाजपा की जीत का जश्न मना रहे हैं, वहीं कुछ लोग मतदाताओं पर अभद्र और निम्न स्तरीय टिप्पणी कर रहे हैं। जिसका जवाब पीएम नरेंद्र मोदी ने सोशल मीडिया “X” पर दिया है।

क्या कहा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी?

पीएम मोदी ने विपक्षी दल और उनके समर्थकों पर तंज कसते हुए लिखा, ” वे लोग अपने अहंकार, झूठ, निराशावाद और अज्ञानता से खुश रहें। लेकिन उनके विभाजनकारी एजेंडे से सावधान रहें। 70 साल पुरानी आदत इतनी आसानी से नहीं जा सकती। साथ ही, लोगों की समझदारी ऐसी है कि उन्हें आगे कई और मंदी के लिए तैयार रहना होगा।”

pm narendra modi

सोशल मीडिया पर हिंदी हार्टलैंड वोटर्स को लेकर निम्न स्तरीय टिप्पणियों का सैलाब

इस बार के विधानसभा चुनाव ने देश को दो हिस्सों में बाँट दिया है। उत्तर में बहुसंख्यक लोग मोदी सरकार यानि बीजेपी का समर्थन करते रहें। वहीं दक्षिण में ज्यादातर जगह पर भाजपा को हार का सामना करना पड़ा है। भाजपा भारत में ऐसी पार्टी के रूप में प्रचलित है, जो हिन्दुत्व का समर्थन करती है। वहीं नॉर्थ और साउथ इंडिया हमेशा से हिन्दी भाषा को लेकर बंटे हुए हैं। उत्तर भारत के ज्यादातर राज्यों में हिन्दी बोली जाती है। इस लिस्ट में मध्यप्रदेश, छतीसगढ़ और राजस्थान भी शामिल हैं। इन्हीं मुद्दों को लेकर सोशल मीडिया पर जंग छिड़ चुकी है। विपक्ष के समर्थकों का कहना है कि उत्तर भारत में साक्षरता दर (Literacy Rate) बहुत कम है। इसलिए लोग बीजेपी को सपोर्ट कर रहे हैं। कुछ का मानना है कि हिन्दी भाषी लोग बीजेपी को पसंद करते हैं।

एक X यूजर ने लिखा, “उत्तर भारत के लोगों ने एक बार फिर बीजेपी को वोट दिया है ताकि वे लोग नौकरी की तलाश में दक्षिण भारत आ सकें।” दूसरा यूजर लिखता है, “उत्तर भारत में  बीजेपी है क्योंकि यहाँ लोग अशिक्षित हैं। साउथ इंडिया में बीजेपी नहीं है क्योंकि यहाँ लोग शिक्षित हैं। फर्क साफ है।” अन्य यूजर्स ने कहा, “हिन्दी बेल्ट अविश्वसनीय है!, आपको नहीं लगता वे लोग सिर्फ मूत्र और गोबर के बारे में सोचते हैं। यही उनके लिए काफी है।”

 

 


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News