क्या आपके सिर पर भी है कर्ज का बोझ, कहीं ये 3 वास्तु दोष तो नहीं है कारण, जानें उपाय

Home Vastu Tips: वास्तु शास्त्र के अनुसार घर में वास्तु दोष होने से कई तरह की समस्याएं हो सकती है। इनमें से एक समस्या है कर्ज। वास्तु दोष के कारण व्यक्ति को बार-बार कर्ज लेना पड़ सकता है या फिर वह कर्ज में डूब सकता है।

vastu tips

Home Vastu Tips: हिंदू धर्म में वास्तु शास्त्र का विशेष महत्व है। घर के निर्माण से लेकर घर की किसी वस्तु को किस दिशा में रखना चाहिए सभी चीजों के लिए वास्तु शास्त्र में कई नियम बताए गए हैं। जब हम वास्तु शास्त्र का नियम नहीं करते हैं तो वास्तु दोष का हमें सामना करना पड़ता है। वास्तु दोष की वजह से व्यक्ति को जीवन में कई प्रकार की परेशानियों का सामना करना पड़ता है। कई वास्तु दोष ऐसे भी होते हैं जो व्यक्ति को कंगाल बना देते हैं। अगर आपकी आर्थिक स्थिति दिन पर दिन कमजोर होती जा रही है या आपके सर पर अधिक कर्ज का बोझ है तो हो सकता है आपके घर में यह वास्तु दोष हो। आज हम आपको इस लेख के द्वारा बताएंगे कि किस दिशा में क्या वास्तु दोष होता है और उसका क्या निवारण है, तो चलिए जानते हैं।

दिशा अनुसार क्या वास्तु दोष होता है

उत्तर-पश्चिम दिशा में वास्तु दोष

उत्तर-पश्चिम दिशा को कुबेर देवता का स्थान माना जाता है। जब इस दिशा में वास्तु दोष होता है तो घर में धन की कमी होती है और व्यक्ति को कर्ज लेना पड़ सकता है।

दक्षिण-पूर्व दिशा में वास्तु दोष

दक्षिण-पूर्व दिशा को अग्निकोण कहा जाता है। इस दिशा में वास्तु दोष होने से खर्चों में वृद्धि होती है जिससे कर्ज चुकाना मुश्किल हो जाता है।

ईशान कोण में वास्तु दोष

ईशान कोण को भगवान शिव का स्थान माना गया है। इस दिशा में वास्तु दोष होने से व्यक्ति शेयर मार्केट, जुआ, सट्टा, लॉटरी आदि के चक्कर में पड़कर कर्ज में फंस सकता है।

उत्तर-पश्चिम दिशा में वास्तु दोष को कैसे दूर करें

इस दिशा में भूलकर भी भारी वस्तु या मशीनरी नहीं रखनी चाहिए। इस दिशा में एक लाल रंग की रोशनी जलाना चाहिए। इस दिशा में तांबे का बर्तन रखे और उसमें पानी भरकर रखें।

दक्षिण-पूर्व दिशा में वास्तु दोष को कैसे दूर करें

इस दिशा में कोई भी नुकीली वस्तु न रखें। इस दिशा में एक कटोरी में चावल भरकर रखें। साथ ही साथ इस दिशा में तुलसी का पौधा जरूर लगाएं।

ईशान कोण में वास्तु दोष को कैसे दूर करें

इस दिशा में एक लकड़ी का मंदिर रखें। इस दिशा में एक गणेश जी की मूर्ति रखें। साथ ही साथ एक मोर पंख भी रखें।

(डिस्क्लेमर : ये लेख विभिन्न धार्मिक स्त्रोतों से प्राप्त जानकारियों के आधार पर लिखा गया है। हम इसकी पुष्टि नहीं करते हैं।)


About Author
भावना चौबे

भावना चौबे

इस रंगीन दुनिया में खबरों का अपना अलग ही रंग होता है। यह रंग इतना चमकदार होता है कि सभी की आंखें खोल देता है। यह कहना बिल्कुल गलत नहीं होगा कि कलम में बहुत ताकत होती है। इसी ताकत को बरकरार रखने के लिए मैं हर रोज पत्रकारिता के नए-नए पहलुओं को समझती और सीखती हूं। मैंने श्री वैष्णव इंस्टिट्यूट ऑफ़ जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन इंदौर से बीए स्नातक किया है। अपनी रुचि को आगे बढ़ाते हुए, मैं अब DAVV यूनिवर्सिटी में इसी विषय में स्नातकोत्तर कर रही हूं। पत्रकारिता का यह सफर अभी शुरू हुआ है, लेकिन मैं इसमें आगे बढ़ने के लिए उत्सुक हूं। मुझे कंटेंट राइटिंग, कॉपी राइटिंग और वॉइस ओवर का अच्छा ज्ञान है। मुझे मनोरंजन, जीवनशैली और धर्म जैसे विषयों पर लिखना अच्छा लगता है। मेरा मानना है कि पत्रकारिता समाज का दर्पण है। यह समाज को सच दिखाने और लोगों को जागरूक करने का एक महत्वपूर्ण माध्यम है। मैं अपनी लेखनी के माध्यम से समाज में सकारात्मक बदलाव लाने का प्रयास करूंगी।

Other Latest News