Wimbledon 2023 Winner: विंबलडन चैंपियन कार्लोस अल्कराज के बारें में जानें 5 दिलचस्प बातें

Wimbledon 2023 Winner: कार्लोस अल्कराज ने विंबलडन का खिताब जीतकर इतिहास रच दिया है। उन्होंने टेनिस जगत के प्रसिद्ध खिलाड़ी सर्बिया के नोवाक जोकोविच को 1-6, 7-6(6), 6-1, 3-6, 6-4 से हरा दिया है। पूरी दुनिया नोवाक जोकोविच को टूर्नामेंट का विजेता मान चुकी थी, लेकिन 20 वर्षीय Carlos Alcaraz ने सबको हैरान कर दिया । इसी के साथ वह टेनिस वर्ल्ड का उभरता हुआ सितारा बन चुके हैं और पूरी दुनिया में सुर्खियां बटोर रहे हैं। यह उनका दूसरा ग्रैन्ड स्लैम हैं। आइए उनके बारे में कुछ रोचक तथ्यों पर न डालें-

16 साल में किया था ATP डेब्यू

अल्कराज ने मात्र 16 साल की उम्र में ATP डेब्यू किया था, साथ ही वह टेनिस् जगत के सबसे कम उम्र के खिलाड़ियों में से एक हैं। अपने पहले राउन्ड में उन्होंने Albert Ramos Vi को मात दी थी। लेकिन दूसरे राउन्ड में एलिमिनेट हो गए।

अल्कराज का रोल मॉडल है ये खिलाड़ी

राफेल नडाल कार्लोस अल्कराज के रोल मॉडल हैं। वहीं उनके कोच भी कुछ कम नहीं है। खिलाड़ी के कोच Juan Carlos Ferrero पूर्व वर्ल्ड नंबर.1 खिलाड़ी हैं, जो दो बार ओलिम्पिक का हिस्सा बन चुके हैं।

टेनिस से है गहरा नाता

खिलाड़ी का जन्म स्पेन के EL Palmar (Murcia) के एक टेनिस प्रेमी परिवार में हुआ। उनके पिता और दादा दोनों ही टेनिस खेलते थे। इतना ही नहीं उनके पिता टेनिस अकाडेमी भी चलाते हैं।

ऐसा करने वाले पहले खिलाड़ी

मात्र 19 साल ही उम्र में अल्कराज राफेल नडाल और जोकोविच को एक ही टूर्नामेंट में हराने वाले पहले खिलाड़ी बने। साथ ही वह ATP रैंकिंग में नंबर 1 स्थान प्राप्त करने वाले सबसे छोटे खिलाड़ी हैं। इतना ही नहीं वह पहले टीनैजर हैं, जिसने US ओपन के फाइनल में Casper Rudd को हराकर वर्ल्ड नंबर.1 का खिताब अपने नाम किया।

जोकोविच से 16 साल छोटे के कार्लोस अल्कराज

5 मई, 2003 में अल्कराज का जन्म हुआ था। उन्होनें 2018 में ही टेनिस खेलना शुरू कर दिया था। खिलाड़ी नोवाक जोकोविच से उम्र में 16 साल छोटे है। 50 सालों में ऐसा पहली बार हुआ, जब विंबलडन फाइनल में खिलाड़ियों के बीच उम्र का इतना अंतर देखा गया हो।

 

 


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News