भूलकर भी न करें ये गलती, वरना हैक हो जाएगा अपका WhatsApp, पुलिस ने किया अलर्ट, ऐसे करें बचाव

Manisha Kumari Pandey
Published on -

WhatsApp Scam: तकनीकी विकास के साथ-साथ साइबरक्राइम के मामले भी बढ़ते जा रहे हैं। स्कैमर्स नए-नए तरीके से लोगों को चूना लगाते हैं। कोलकाता पुलिस ने व्हाट्सऐप और अन्य सोशल मीडिया हैकिंग को लेकर अलर्ट जारी किया है। कुछ कारोबारियों और छात्रों की शिकायतों के जवाब के रूप में पुलिस ने व्हाट्सऐप और फेसबुक यूजर्स के लिए अलर्ट जारी किया है।

इन मामलों में हैकर्स गलत तरीके से यूजर्स के अकाउंट का एक्सेस लेकर यूजर्स के दोस्तों और परिवार के साथ ठगी को अंजाम देते हैं। ऐसी घटना पहली बार 21 जून को सामने आई थी। रिपोर्ट के मुताबिक हैकर्स ने विश्व योग दिवस के दिन योगा क्लासेस में शामिल होने के लिए कई लोगों को आमंत्रित किया। उसके बाद उन्हें एक लिंक भेजकर उसपर क्लिक करने के लिए कहा।

क्लिक करते ही लोगों के मोबाइल फोन में 6 अंकों का ओटीपी मिला, जिसे साझा करने को कहा गया। यह वेरफिकेशन के लिए ओटीपी कोड था। कोड शेयर करते ही ठगी करने वालों को सोशल मीडिया अकाउंट का एक्सेस मिल गया। स्कैमर्स इतने में नहीं रुकते। वे लोग यूजर्स की पहचान चुराकर उनके परिवार और दोस्तों के संपर्क में आते हैं। उसके बाद इमरजेन्सी का बहाना कर पैसे मांगते हैं। ऐसे मामलों से बचने के लिए कोलकाता पुलिस ने चेतावनी जारी की है।

ऐसे करें बचाव

  • अनजान कॉन्टैक्ट से आए मैसेज को फॉरवर्ड न करें, जिसमें कोड शेयर को कहा गया हो।
  • संदिग्ध मैसेज से बचें।
  • कॉन्टैंक्ट्स के साथ आए पैसों के रिक्वेस्ट को चेक करें। व्हाट्सऐप पर किसी प्रकार के पर्सनल डिटेल्स को साझा करने से बचें।
  • पर्सनल जानकारी भेजने से पहले सामने वाले यूजर को फोन कॉल या व्यक्तिगत रूप से बातचीत वेरीफाइ करें।
  • व्हाट्सऐप पर टू-स्टेप वेरीफिकेशन फीचर एक्टिव कर लें।
  • किसी प्राकार के संदिग्ध गतिविधियों को नज़रअंदाज़ न करें। साइबर सेल पुलिस के पास इसे रिपोर्ट करें।

About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News