क्या आप भी अमरूद से जुड़े इन मिथ्स को सच मान बैठे, जानिए उनसे जुड़े फैक्ट

अमरूद ही नहीं किसी भी फल का सेवन सीमित मात्रा में करें।

जीवनशैली, डेस्क रिपोर्ट। अमरूद के स्वाद के क्या कहने हैं, इस फल के लिए पूरा साल इंतजार करते हैं लोग और फिर सर्दियों में मिलता है मौका इसका स्वाद लेने का। इस मौसम में भी कुछ मिथ्स आड़े आ जाते हैं, और अमरूद के शौकीनों को उससे दूर कर देते हैं। ऐसे मिथ्स की सच्चाई जानना बहुत ही जरूरी है। ताकि सीमित समय के लिए मिलने वाले इस फल से आपको वंचित न होना पड़े। चलिए आइए जानते हैं कि अमरूद से जुड़े कुछ प्रचलित मिथ्स और उनकी सच्चाई।

यह भी पढ़े…Gwalior News : ओलावृष्टि से 74 गांवों की फसलें बर्बाद, 30 करोड़ के नुकसान का अनुमान

मिथ – जुकाम होने पर अमरूद से दूर रहें
फेक्ट – सच्चाई ये है कि अमरूद में विटामिन सी सहित कई तरह के मिनरल्स होते हैं। जो शरीर की इम्यूनिटी को बढ़ाते हैं। और हल्के फुल्के संक्रमण से लड़ने में मददगार होते हैं। वैसे बहुत तेज सर्दी जुकाम हो तो डॉक्टर से पूछ कर ही डाइट लेना ठीक होता है। अमरूद को सेंक कर खाने से ये औषधी का भी काम करता है। दवा लेने के बाद जो थोड़ी बहुत खांसी रह जाती है। उस पर कारगर असर दिखाता है सिंका हुआ अमरूद।

यह भी पढ़े…वॉट्सऐप मैसेज पढ़ने का नहीं मिल रहा समय, ऐसे करें बुकमार्क, एक ही साथ मिल जाएंगे सारे अनरीड मैसेज

मिथ – शुगर पेशेंट न खाएं अमरूद
फेक्ट – शुगर या डायबिटीज के रोगी अक्सर अमरूद की मिठास के चलते इससे दूरी बना लेते हैं। अमरूद के फाइबर्स और बीज शुगर के मरीजों के लिए फायदेमंद ही हैं। हालांकि फल खाते समय ये ध्यान रखें कि डॉक्टर्स निश्चित मात्रा में फल खाने की सलाह देते हैं। अगर शुगर पेशेंट एक दिन में पर्याप्त मात्रा में फल खा चुके हैं, तो वे अमरूद की खुराक दूसरे दिन लें तो ही बेहतर होगा।

यह भी पढ़े…OBC आरक्षण पर प्रदेश सरकार की बड़ी तैयारी, सीएम शिवराज ने सोमवार को बुलाई बड़ी बैठक

मिथ – अमरूद के फाइबर्स और बीज करते हैं नुकसान
फेक्ट – अमरूद कच्चा हो या पक्का उसके फाइबर्स शरीर को नुकसान नहीं पहुंचाते। अमरूद डाइजेशन को बेहतर ही बनाता है। पेट को ठीक रखने के लिए कई लोग अमरूद के साथ-साथ उसकी पत्तियों का भी सेवन करते हैं।

यह भी पढ़े…इंदौर स्पा से पकड़ी गई तीन थाई लड़कियां और एक कस्टमर निकले संक्रमित

मिथ – अमरूद कभी नुकसान नहीं पहुंचाता
फेक्ट – कहा जाता है, कि अति हर चीज की बुरी होती है। अमरूद पर भी यही कहावत लागू होती है। हर उम्र और वर्ग के हिसाब से फाइबर्स और दूसरे पोषक तत्वों की मात्रा तय है। अगर आप उससे ज्यादा डाइट लेते हैं। तो नुकसान होने की संभावना है। इसलिए अमरूद ही नहीं किसी भी फल का सेवन सीमित मात्रा में करें।

यह भी पढ़े…डबरा : ओलावृष्टि से हुआ फसलों का नुकसान, सांत्वना देने पहुँचे भाजपा और कांग्रेस नेता

मिथ – अमरूद किसी भी वक्त खाया जा सकता है।
फेक्ट – अमरूद ही नहीं अधिकांश फल सुबह या दोपहर तक खाने की सलाह दी जाती है। रात की डाइट में फलों को न शामिल करना ही ठीक है। फलों की मिठास की वजह से भी यही सलाह दी जाती है। अधिकांश फलों की तासीर भी ठंडी होती है। इसलिए उन्हें रात की ठंडक में न खाने की सलाह ही दी जाती है। अगर आप अमरूद के शौकीन हैं तो इसे दिन में खाना बेहतर होगा।