अब कभी नहीं हसाएंगे 'डॉ. हाथी', हार्टअटैक से निधन, शोक में डूबी 'तारक मेहता' की टीम

मुंबई| टेलीविज़न की दुनिया के सबसे पॉपुलर शो में से एक  'तारक मेहता का उल्टा चश्मा' में डॉ. हंसराज हाथी का किरदार निभाने वाले कवि कुमार आजाद अब आपको कभी हसा नहीं पाएंगे|  उन्होंने वोकहार्ट अस्पताल में अंतिम सांस ली, दिल का दौरा पड़ने के चलते उनकी मौत हो गई| उनके अचानक चले जाने से टेलीविज़न इंडस्ट्री में शोक की लहार है वहीं 'तारक मेहता का उल्टा चश्मा' के सभी सदस्यों के लिए गहरा सदमा देने वाली खबर है| इस शो के एक एप‍िसोड की शूट‍िंग आज फिल्मस‍िटी में होनी थी ज‍िसे कैंस‍िल कर द‍िया गया है| 

अपने भारी भरकम शरीर और चुलबुले अंदाज ने उन्हें लोगों के बीच पॉपुलर बनाया और आज देश के कौन कौन में उनके प्रशंसक हैं और उन्हें डॉक्टर हाथी ही कहते हैं| डॉक्टर हंसराज हाथी का किरदार निभाने वाले कवि कुमार आजाद मूलरूप से बिहार के सासाराम स्थित गौरक्षणी के रहने वाले थे| जिस समय उन्हें दिल का दौरा पड़ा वे घर पर थे। उनके निधन से टीवी इंडस्ट्री को बहुत बड़ा झटका लगा है। मीडिया रिपोर्ट की मानें तो साल 2010 में कवी कुमार आजाद उर्फ डॉ. हाथी ने अपना 80 किलो वजन सर्जरी से कम किया था। इस सर्जरी के बाद उन्हें रोजाना की जिंदगी में काफी आसानी हो गई थी।

कवि कुमार आजाद काफी लंबे समय से शो से जुड़े हुए थे। कुछ दिन पहले एक्टर कवि कुमार ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर ट्वीट करते हुए लिखा था, 'किसी ने कहा है कल हो न हो, मैं कहता हूं पल हो न हो। हर लम्हा जियो।'  

साल 2008 में टीवी  सीरियल तारक मेहता का उल्टा चश्मा में निर्मल सोनी के डॉक्टर हाथी का किरदार छोड़ने के बाद कवि आजाद को यह रोल मिला था, तब से वो ही डॉक्टर हाथी का किरदार निभा रहे थे| उन्हें लोगो द्वारा खूब पसंद भी किया जाता था| उनका डायलॉग 'सही बात है' चर्चित हो गया था| साल 2000 में उन्हें फिल्म मेला में सुपरस्टार आमिर खान के साथ काम करने का मौका मिला| इसके अलावा उन्होंने फंटूश, ड्यूड्स इन द टेन्थ सेंचुरी जैसी फिल्मों में भी काम किया है|