गुब्बारे फेंकने वाले बाबा ने शिवराज को दिया श्राप, नही सुधरे तो जाएगी सत्ता

राजगढ़ ।मनीष सोनी ।

मध्यप्रदेश के राजगढ़ जिले में शुक्रवार को जीरापुर अंत्योदय मेले एवं महिला सम्मेलन में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह पर गुब्बारा फेंकने वाले बाबा का पता चल गया है। बाबा का नाम भगवान  उर्फ शैलेंद्र शर्मा है जोकि राजगढ़ के इंगले कॉलोनी में रहते हैं।परशुराम बाबा का पूरा नाम भगवान परशुराम पीठाधीश्वर आचार्य महामंडलेश्वर परशुराम महाराज है। बाबा ने खुद स्वीकार किया है कि उन्होंने जानबूझकर मुख्यमंत्री पर गुब्बारा फेंका था। बाबा ने कहा है कि वो कोई साधारण गुब्बारा नही था , उसमें मैने श्राप फूंककर फेंका था। 

बाबा ने पत्रकारों से चर्चा के दौरान बताया कि दो अप्रैल को ग्वालियर, भिंड, मुरैना मे जो हिंसा हुई है उसकी सरकार और प्रशासन जिम्मेदार है। यदि सवर्ण और पिछड़ों को परेशान करने का सिलसिला ऐसे ही चलता रहा तो बीजेपी ने गुजरात तो जैसे-तैसे जीत लिया था, लेकिन मध्यप्रदेश नहीं जीत पाएंगे। कानून व्यवस्था की जिम्मेदारी राज्य सरकार की थी, पर सरकार ने पुलिस को कार्रवाई नहीं करने दी। इसके बाद भी शिवराज नही सुधरे तो आने वाले चुनावों में सत्ता हाथ से जाएगी। 

बाबा यही नही रुके उन्होंने कहा कि मैं चाहता हूं कि ये मेरा मैसेज बाबा ने अमित शाह और प्रधानमंत्री मोदी तक पहुंचे कि मध्यप्रदेश में पिछडे और सवर्णों पर जिस तरह का अत्याचार हो रहा है उस पर तत्काल कार्रवाई होनी चाहिए। नहीं तो 2018 और 2019 में पिछड़े और सवर्ण मिलकर सबक सिखाएंगे।

गौरतलब है कि जीरापुर में शुक्रवार को अन्त्योदय मेले एवं महिला सम्मेलन का आयोजन किया गया था, जिसमे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह पहुंचे थे और मंच पर खड़े होकर सम्बोधित कर रहे थे। तभी एक साधु बाबा जिसका नाम  परशुराम बाबा उर्फ शेलेन्द्र शर्मा बताया गया है। अचानक सुरक्षा घेरा तोड़ते हुए मंच के नज़दीक पहुंचा और पानी का गुब्बारा सीएम की तरफ फेंका, हालांकि गुब्बार मुख्यमंत्री को नहीं लगा। इस दौरान बाबा कहने लगा मेने श्राप दिया है। इस घटना से अफरा तफरी मच गई, लेकिन सीएम ने अपना भाषण नहीं रोका वो लगातार बोलते रहे।

बताया जा रहा है कि बाबा के पास एक फरसा था, लेकिन पुलिस ने उसे पहले ही छुड़ा लिया था, इस कारण वो नाराज हो गया और गुस्सा में आकर उन्होंने पानी का एक गुब्बारा सीएम की तरफ फेंक दिया।