सीएमएचओ के दफ्तर का लेखापाल रिश्वत लेते रंगेहाथों धराया

श्योपुर। लोकायुक्त ने एक बार फिर कार्रवाई करते हुए रिश्वत लेते सरकारी कर्मचारी को रंगेहाथों पकड़ा है| लोकायुक्त के शिकंजे में इस बार सीएमएचओ दफ्तर का लेखापाल फंसा है| जो बीमा राशि के पैसे निकलवाने के नाम पर 5000 की रिश्वत ले रह था| 

जानकारी के मुताबिक मंगलवार को लोकायुक्त पुलिस ने सीएमएचओ दफ्तर के लेखापाल रामकुमार त्रिवेदी द्वारा जीपीएफ और बीमा की राशि निकालने के बदले 25 हजार रुपए की रिश्वत लेते रंगेहाथों पकड़ा है| योगेन्द्र सिंह वघेल नामक व्यक्ति ने लोकायुक्त में इसकी शिकायत की थी| योगेंद्र की मां फूलन देवी एएनएम के पद पर श्योपुर में पदस्थ थी जो कि 31 अगस्त को सेवानिवृत्त हो गईं। जिनके द्वारा जीपीएफ और बीमा राशि के लिए सीएमएचओ दफ्तर में आवेदन किया गया था| लेकिन राशि निकलवाने के लिए उनसे बार बार चक्कर लगवाए जा रहे थे| आवेदक योगेन्द्र के अनुसार लेखापाल ने पैसे निकालने के बदले 25 हजार रुपए की रिश्वत मांगी और सौदा 17 हजार रुपए की रिश्वत लेकर जीपीएफ राशि निकालने का तय हो गया। जिसके बाद योगेंद्र ने इसकी शिकायत लोकायुक्त में कर दी| लोकायुक्त पुलिस साखस्य भी सौंपे गए थे| जिसके बाद मंगलवार सुबह डीएसपी प्रद्युम्न पाराशर के नेतृत्व में लोकायुक्त पुलिस ने सुबह दफ्तर पर छापा मारा और कार्यवाही करते हुए आरोपी लेखपाल को आवेदक से पांच हजार रुपए की रिश्वत लेते हुए रंगेहाथों धार लिया|