नेपाल प्लेन क्रैश: को-पायलट ने 16 साल पहले पति को ऐसे ही हादसे में खोया था, प्रमोशन से 10 सेकंड दूर थी

अंजू काठीवाड़ा, 44, काठमांडू से यति एयरलाइंस की उड़ान में सह-पायलट थी, जो पोखरा शहर के पास दुर्घटनाग्रस्त हो गया।

 नेपाल प्लेन क्रैश: यति एयरलाइंस के विमान की को-पायलट अंजू काठीवाड़ा ने 16 साल पहले इसी तरह के एक विमान दुर्घटना में अपने पति को खो दिया था। संयोग से, अंजू काठीवाड़ा के पति, दीपक पोखरेल भी यति एयरलाइंस के ही को-पायलट थे। सोलह साल पहले 21 जून, 2006 को येती एयरलाइंस का 9N AEQ विमान, जो नेपालगंज से सुरखेट के रास्ते जुमला जा रहा था, दुर्घटनाग्रस्त हो गया था, जिसमें छह यात्रियों और चालक दल के चार सदस्यों की मौत हो गई थी।

सपने पूरे करने से चंद सेकंड दूर थी 

अंजू काठीवाड़ा पायलट बनने के अपने सपने को साकार करने से कुछ सेकंड ही दूर थीं। फ्लाइट को सीनियर कैपिटन कमल केसी चला रहे थे और अंजू विमान में को-पायलट थीं।

रिपोर्टों में दावा किया गया है कि दुर्घटनाग्रस्त विमान के को-पायलट अंजू काठीवाड़ा की आखिरी उड़ान के लिए यति एयरलाइंस का विमान निर्धारित किया गया था। रविवार को होने वाली उसकी सफल लैंडिंग के बाद वह कप्तान बनने के लिए तैयार थी। हालांकि, उनके सपने तब टूट गए जब विमान नयागांव में सुबह करीब 10.30 बजे दुर्घटनाग्रस्त हो गया, जिसमें सभी 72 लोग मारे गए – 68 यात्री और चालक दल के 4 सदस्य।

6,400 घंटे से अधिक उड़ान समय के साथ पायलट, काठीवाड़ा पहले भी राजधानी काठमांडू से देश के दूसरे सबसे बड़े शहर पोखरा के लोकप्रिय पर्यटन मार्ग में उड़ान भरी था।

21,900 घंटे से अधिक समय तक उड़ान भरने वाले विमान के कप्तान कमल के.सी. का शव बरामद कर लिया गया है और उसकी पहचान कर ली गई है।

काठीवाड़ा के अवशेषों की पहचान नहीं हुई है, लेकिन उनके मारे जाने की आशंका है।काठीवाड़ा को व्यक्तिगत रूप से जानने वाले यति एयरलाइंस के एक अधिकारी ने कहा, “रविवार को वह प्रशिक्षक पायलट के साथ विमान उड़ा रही थी, जो एयरलाइन की मानक प्रक्रिया है।”

68 शव बरामद नेपाल प्लेन क्रैश: को-पायलट ने 16 साल पहले पति को ऐसे ही हादसे में खोया था, प्रमोशन से 10 सेकंड दूर थी

रविवार को नेपाल के पोखरा में दुर्घटनाग्रस्त हुए यती एयरलाइंस के विमान के मलबे से बचाव दल द्वारा अब तक कुल 68 शव बरामद किए गए हैं। येती एयरलाइंस के मुताबिक, विमान पुराने हवाई अड्डे और पोखरा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के बीच दुर्घटनाग्रस्त हो गया। यात्रियों में तीन शिशु, तीन बच्चे और 62 वयस्क थे। 

सिविल एविएशन अथॉरिटी ऑफ़ नेपाल के अनुसार, मृतक यात्रियों में 53 नेपाली नागरिक, पांच भारतीय, चार रूसी, एक आयरिश, एक ऑस्ट्रेलियाई, अन्य शामिल हैं।
हादसे में जान गंवाने वाले चार यात्री उत्तर प्रदेश के गाजीपुर के रहने वाले थे। विमान के दुर्घटनाग्रस्त होने से कुछ मिनट पहले, वे उड़ान पर अपने अनुभव साझा करने के लिए फेसबुक पर लाइव थे।

सोशल मीडिया पर पोस्ट किए गए दुर्घटना के एक वीडियो के अनुसार, पोखरा हवाई अड्डे के पास एक खाई में दुर्घटनाग्रस्त होने और आग पकड़ने से पहले कठीवाड़ा जिस एटीआर -72 विमान की को-पायलट थी, वह एक तरफ से दूसरी तरफ लुढ़का हुआ था।
विमान से कॉकपिट वॉयस रिकॉर्डर और फ्लाइट डेटा रिकॉर्डर बरामद किया गया है, जो जांचकर्ताओं को यह निर्धारित करने में मदद कर सकता है कि यह साफ मौसम में कैसे दुर्घटनाग्रस्त हुआ।